hamarivani.com

www.hamarivani.com

Tuesday, 30 June 2015

India should adopt 'Tit for Tat policy'



        During last months statements by Govt. functionaries specifying policy changes by Indian Establishment regarding Pakistan have been objected to. Pakistan was expected to do so , but even Indian Opposition and a part of media also objected to declared intent. Defence Minister Manohar Parrikar felt so much disgusted with the criticism that recently he declared at Goa he would not talk with media for next six months.

          For many years India has been holding talks with Pakistan time to time. But these talks didn't bear any fruit. Pakistan has been stressing that Jammu & Kashmir is unfinished agenda of partition and the state has wrongfully been usurped by India. Pakistan keeps repeating that it will provide all moral support ,which means all kind of support including money and arms, to the Kashmiri secessionists.

          In Pakistan there are many power centers and strongest of these is Army. As such there is a rare possibility that ever all the branches of power in Pakistan will converge on a common ground and that too for friendship with India. There are several vested interests including a section of politicians, army and fanatic groups in Pakistan who survive on anti India sentiments.

          As such India has no other viable option but to keep Pakistan under pressure and tell that it will have to bear the brunt of a" Tit for Tat" policy in case of any mischief.

         So I find nothing objectionable if Indian Defence Minister says that he sees no harm in using Terrorists against Terrorists. Similarly giving details of Indian Military Operation in Myanmar and telling such operations could be taken up in other neighbour countries also where so called Non State Actors are holed up, is also not a bad idea at all.

          My view is when Pakistan unabashedly supports Kashmiri Militants and separatists why should we not support Baluch separatists of Pakistan and announce our moral support for them as Baluchs are being repressed by Pakistan with its army might. Why should we be shy of our moral support for the Muhajir community of Pakistan if they are at the receiving end there. India can also allege that Pakistan usurped North West Frontier Province by a stage managed referendum at the time of Independence although there was a Congress Govt. in the province. As the then Congress leaders didn't desire to have N W F P as non contiguous territory of India they didn't object to tactics of Muslim League. Khan Abdul Gaffar Khan felt abandoned by Congress.He told if there was no option of going with India before the Pakhtoons, they should have been given option of Independence. But N W F P was given to Pakistan on a platter.

          While adopting a policy of putting Pakistan under pressure we must bite only as much as we can chew  because we must be able to show that we mean business. Pakistan should know that we are not just bragging rather we intend to carry out what we declare. The day Pakistan comes to know that we can call its bluff and it will have to pay back with the same coins it will stop its subversive game. Pakistan will sit silently if it comes to know that its tails are under Indian feet. Thereafter our talks with Pakistan would also be fruitful.

          During his talks with journalists when someone asked Manohar Parrikar 'Pakistan ko mirchi lag gai', he said laughingly 'Andhra ki mirchi lag gai'. Although he might have said so in jestful mood, he should have avoided it. Important Govt. functionaries should always be cautious about what they say publicly specially when commenting about a neighbor country, as it may have wider ramifications. Even their jokes could be taken seriously so they should talk businesslike.

Monday, 29 June 2015

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस ( मेघ-गीत)



बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
जीवन बंजर तुझ बिन, तू बरसे तो रस
ताप से कुम्हलाए मनुज और प्रकृति
तू आया सब खिल कर रहे विहँस ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
आसरहित हो तेरे बिन सब थे रहे तरस
व्यथित मन तापित हो लगा लगने विरही
तू बरसा तो रूक्ष जीवन बना सरस ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
धरती पे हरीतिमा फिर से गई परस
तुझे पा हुई निहाल शुष्क पडी वसुधा
कृषक हुए मुदित कांधे पे लिए करष ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
देख आहलादित मयूर नाच उठे बरबस
तू बरसाता बूँदे जिनमें है भरा अमिय
समस्त सृष्टि को देता भर जीवनरस ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
शहरी मेम भीजें, कोसें ले स्वर कर्कश
शहरी बाबू बेचैन हो खोजें छायास्थल
पर गाँव की गोरी तुझे देख रही हरष ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
गंगा पे धार तेरी जब पडी प्रखर
नौका रह गई घाट पर बँधी की बँधी
राजा न आया, बनारस में बना रस ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
हौले- हौले से बरसा बूँदें छप्पर पर
झींगुरों से हो गई गुंजारित निशा
परदेशी हित कोई करवट ले रहा सिहर ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
घूँघट के सायों से फूट रही है बतरस
ताल से दादुर रहे पुकार प्रिया को
दे उल्लास, न रख कहीं कोई कोरकसर ॥

बरस-बरस, बरस रे मेघा खूब बरस
बता तेरे कलश में है कितना मधुरस
अभी रुक,मत जा छोडकर ठाँव मेरा
तू लेकर आया है जीवन में नवरस ॥

बरस-बरसबरस रे मेघा तू खूब बरस॥
       - संजय त्रिपाठी










Sunday, 28 June 2015

Congress and Cow- calf syndrome !



           Gandhiji suggested that after Independence Indian National Congress should wind up.Probably his view was that as an organisation Congress was platform for people representing diverse political thoughts who unitedly fought for the National Freedom . As Congress achieved its objective congressmen should be left free to pursue the new goals of nation building as per their own thoughts. But Congressmen ignored Gandhiji's opinion and Congress became ruling party of independent India. However first the socialist block of Congress floated a new party and later C. Rajgopalachari floated 'Swatantra Party' representing capitalist point of view. Indian National Congress ruled India unchallenged before 1966-67. During 1966-67 Congress faced first major political challenge when it lost power in many states.However it could retain power at Center. 

          After Lal Bahadur Shastri's demise K. Kamraj and his group supported Indira Gandhi for the post of Prime Minister who was known as 'Gungi Gudiya'( the dumb doll) in the political circle due to her peaceful ways of functioning. They were hopeful that she would do their bidding. With their support Indira Gandhi became new P.M. defeating Morarji Desai who was known for his tough ways.

          However Kamraj and his group were disappointed when Indira Gandhi acted on her own and disregarded them. Kamraj Group started pressure tactics. In 1969 Mrs. Gandhi decided that enough was enough and supported independent candidate V V Giri for presidenship of the country against official Congress candidate N. Sanjiva Reddy. V. V.Giri became the new president of India and simultaneously Congress was devided over the issue. The Group supporting P.M. Indira Gandhi came to be known as Congress ( Indicate ) while the other Group ,as Congress(Syndicate) . Indira Gandhi strengthened her position by going for a mid term pole in 1971and coming back to power with thumping majority. 

          After division of Congress it was Indira Gandhi who called the shots in her party and no one else mattered.She came to be known as a person who didn't like to listen a 'no' . Everything was decided by High Command which meant Indira Gandhi.This killed the democracy in her party.While assisting her father Pandit Nehru when he was P M ,she had seen politics and politicians from close quarters and knew that no one could be relied upon in poltics and back stabbing was common. So she did not believe anyone and slightest of suspicion or provocation was enough for her to throw people out.

          When Indira Gandhi found herself in a shaky position in 1975 , she imposed emergency upon the nation to keep her position unchallenged. 

          In my view after imposition of emergency Indira Gandhi found herself lonely as no one dared to speak before her at party forums. As she herself didn't have faith in people she looked towards her family. Rajiv Gandhi was satisfied with his life as an Indian Air Lines pilot and had no political ambitions at that time. So Indira Gandhi had to look towards her Younger son Sanjay Gandhi for solace. Since his education days ,Sanjay Gandhi was a law unto himself and ambitious too. Emergency provided Indira Gandhi a perfect background to launch Sanjay Gandhi into politics as there was no one to question the idea. Her party was totally subservient and opposition was in jail or subdued.It is exactly the time since when Congress became afflicted with cow- calf syndrome. I term it as cow-calf syndrome because cow and new born calf have immense affection for one another and at the same time suspicious of others. In those days pair of cow and calf was party symbol of Congress also.

          After the untimely accidental death of Sanjay Gandhi in 1980, Indira Gandhi brought Rajiv Gandhi( although he never had any political inclination) to groom him as her heir . Here we see signs of cow-calf syndrome reasserted.

          I find Congress again afflicted with the same syndrome when the party feels that it can't do without Soniya and Rahul duo . When I compare Soniya Gandhi with Indira Gandhi I don't find her as insecure or tendency of not having faith and being retributive as was Indira Gandhi.The reason may be that she had a Happy family life with Rajiv Gandhi and basically an apolitical person . She had no qualms in aligning with Sharad Pawar or D M K although Sharad Pawar had earlier ditched her while D M K gave moral support to the group responsible for killing of Rajiv Gandhi. She had no grudge for Jitendra Prasad or Rajesh Pilot who challenged her for the presidenship of Congress and had no hesitation in rehabilitating their sons.She has shown immense faith in Dr. Manmohan Singh.

          So I think she is the right person who can help Congress come out of the cow-calf syndrome. Today's Congress is only a shade of Nehru era Congress when it had many giants as leaders and a true democratic system. Today for each and every thing the party looks towards Soniya and Rahul Gandhi. To earn the last glory, the party should revive democratic apparatus of the party so that natural leaders could emerge. Presently Rahul is being promoted as heir of Soniya under the cow-calf syndrome only. Rather than that he should secure his place democratically and if a competent leadership emerges challenging him same should be given space in the party.His mother was at least challenged by two-three people and she overcame that. Today the Congress Party seems to be ideologically confused and opposing B J P seems to be the only one point agenda . It opposes even celebration of "World Yoga Day" and at the same time releases photographs of Nehruji doing Yoga. To establish itself as a true opposition it has to find where it is politically-ideologically standing. Only clear ideological moorings can help it regain the lost political space. India needs an All India Opposition Party with clear ideological standing and true democratic traditions.To fulfill this role Congress has to evolve itself. 

Saturday, 27 June 2015

कहते हो प्यार करते हो (गजल)

हाथों में  तीरों का तरकश रख कहते हो प्यार करते हो।
करते हो हर रोज घाव नए कहते हो प्यार करते हो।।

रोज दिल कर देते हो छलनी जब वार करते हो।
पर अंदाज भी है क्या खूब कहते हो प्यार करते हो।।

तिरछी नजरों से देख मेरे सीने को चाक करते हो।
नीयत में मेरी जफा बताते हो  कहते हो प्यार करते हो।।

मुझसे फरेब का डर जता ढाते हो जुल्म-ओ-सितम।
बावफा नहीं बेवफा समझते हो कहते हो प्यार करते हो।।

ख्वाबों में भी देख दगा के दाग मुझे बेहाल करते हो।
दिल के टुकड़े हजार कर 'संजय' कहते हो प्यार करते हो।।



Friday, 26 June 2015

आपातकाल के वो दिन!

          26 जून 1975 की शाम मुझे आज भी याद है। उस समय मेरी उम्र लगभग 13 वर्ष की थी। उन दिनों मैं फैजाबाद में था जहाँ मेरे पिताजी तैनात थे । मेरे पिताजी बाजार गए हुए थे और जब लौटकर आए तो स्थानीय 'जनमोर्चा' समाचारपत्र का प्रकाशित विशेष संस्करण लेकर आए जिसमें 25 जून की रात से देश में आपातकाल की घोषणा और विपक्षी नेताओं को गिरफ्तार किए जाने का समाचार था। बाद में इस समाचारपत्र के संपादक को गिरफ्तार कर लिया गया। प्रेस सेंसरशिप लगा दी गई थी तथा नागरिक अधिकारों को निलंबित कर दिया गया। देश के वे सभी विपक्षी नेता जिनका तनिक भी उल्लेख योग्य अस्तित्व था गिरफ्तार कर लिए गए। स्थानीय नेताओं की भी धर-पकड़ हुई। आर एस एस और जमायते इस्लामी के लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया गया। 

          गुजरात में कांग्रेस के विरुद्ध ' नव निर्माण आंदोलन' 1973 से 1974 तक चलने के बाद सफल रहा था तथा इससे ही प्रेरणा लेकर जयप्रकाश नारायण ने पहले तो मार्च-अप्रैल 1974 में बिहार में छात्र आंदोलन का समर्थन किया और फिर संपूर्ण क्रांति का नारा देते हुए सभी विपक्षी पार्टियों को एकजुट कर कांग्रेस के खिलाफ आंदोलन को तेज किया । निःसंदेह इस सबसे प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी विदग्ध रही होंगी पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय में उनके निर्वाचन के खिलाफ समाजवादी नेता राज नारायण द्वारा दायर मुकदमा 12 जून 1975 को हार जाने ने आग में आहुति का काम दिया। न्यायालय ने उनका निर्वाचन अवैध ठहराते हुए उनके छः साल तक चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी थी। कहा जाता है कि श्रीमती इंदिरा गाँधी ने इस्तीफा देने का मन बनाया था पर विपक्षियों के उग्र विरोध को देखते हुए सत्ता बचाए रखने के लिए सिद्धार्थ शंकर राय और अपने पुत्र संजय गाँधी के कहने में आकर उन्होंने इमरजेंसी लगा दी।

          आपातकाल का कोई तीव्र प्रतिकार या विरोध नहीं हुआ। शुरू में जो थोड़े बहुत विरोध के स्वर उभरे वे भी जल्दी शांत होगए। प्रशासन और पुलिस को असीमित अधिकार मिल गए। " Power corrupts and absolute power corrupts absolutely " की तर्ज पर उन्होंने तमाम जगह इन शक्तियों का दुरुपयोग किया। मैं दसवीं कक्षा का छात्र था । एक दिन मेरी कक्षा के दो छात्र हँसी- मजाक और आपस में धौल-धुप्पा करते हुए शहर कोतवाली के आगे से जा रहा थे और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पर लोग चुप थे और जीवन चल रहा था। विपक्षी दलों के उन नेताओं को, जो शांत हो गए या जिन्होंने ऐसा करने का वायदा किया आगे चलकर छोड़ भी दिया गया। पर इस दौरान तमाम लोगों पर अत्याचार और अमानवीय बर्ताव किए जाने की बातें प्रकाश में आईं।

          सरकारी कर्मचारी और सरकारी ट्रेनें समय से आने लगे और इसमें कुछ लोगों को अनुशासन दिखने लगा । विनोबा भावे ने आपातकाल को "अनुशासन पर्व" की संज्ञा दे डाली।

          श्रीमती इंदिरा गाँधी के छोटे सुपुत्र संजय गाँधी अनधिकृत तौर पर सत्ता का एक केन्द्र बनकर उभरने लगे। कांग्रेस पार्टी में उन लोगों का महत्व बढ़ गया जो संजय गाँधी के नजदीक थे। ऐसा होने के साथ ही आपातकाल के माध्यम से प्राप्त अधिकारों का बेजा इस्तेमाल बढ़ गया। 1975 में श्रीमती इंदिरा गाँधी का बीस सूत्रीय कार्यक्रम आया और इसके बाद 1976 में संजय गाँधी का चार सूत्रीय कार्यक्रम आया जिसमें परिवार नियोजन एक था। संजय गाँधी को "युवा हृदय सम्राट" कहकर प्रचारित किया जाने लगे। चाटुकारिता अपनी चरमसीमा पर पहुँच गई । चारों तरफ संजय गाँधी की जय-जयकार होने लगी।

          उत्तर भारत में अधिकारियों ने परिवार नियोजन के कार्यक्रम को जोर-शोर से लागू करने के प्रयास शुरू कर दिए और इसमें जबर्दस्ती का भी समावेश हो गया। जिला स्तर के शिक्षा अधिकारी विद्यालयों का दौरा कर शिक्षकों को नसबंदी के केस लाने के लिए कहने लगे। मुझे ज्ञात हुआ कि इसी प्रकार के एक दौरे के दौरान जब विद्यालय के शिक्षकों ने इस पर आपत्ति की तो शिक्षा अधिकारी ने कहा कि यह सरकार आप लोगों की ही चुनी हुई है तो अब सरकार जो कहती है आपको उसका पालन करना पड़ेगा। मेरे एक परिचित शिक्षक मोहल्ले के कुछ मुस्लिम परिवारों के पास अपने अधिकारियों के निर्देशानुसार परिवार नियोजन अपनाने की बात कहने गए । इस पर उन लोगों ने कहा "मास्टर साहब हम लोग आपकी इज्जत करते हैं इसलिए कुछ नहीं कह रहे हैं। पर यह जान लीजिए कि यह हमारे मजहब के खिलाफ है और हम लोग किसी भी हाल में नसबंदी नहीं कराएँगे। आइंदा हम लोगों से इस तरह की बात नहीं करिएगा।" आपातकाल में बहुत से लोगों की जबर्दस्ती और कुछ की धोखे से भी नसबंदी की गईं इसमें हिन्दू-मुसलमान सभी थे। सरकारी कर्मचारी और अध्यापक बख्शे नहीं गए। जिनके भी दो या अधिक बच्चे थे उनकी कई स्थानों पर तनख्वाह रोक दी गईं और तभी दी गई जब उन्होंने नसबंदी करवा ली। फैजाबाद जी आई सी के कुछ मुस्लिम अध्यापकों ने 'जबरन नसबंदी ' के खिलाफ बयान दिया। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और तभी छोड़ा गया जब उन्होंने नसबंदी करवा ली। कांग्रेस समर्थकों को छोड़कर आम जनता, मुस्लिम समुदाय, सरकारी कर्मचारी सहित समाज के तमाम चेहरों में भय और असंतोष का वातावरण व्याप्त हो गया। 1975 में मेरे पिताजी का स्थानांतरण कानपुर हो गया था और 1976 में पुनः फैजाबाद हो गया। जब मेरे पिताजी मेरी बहन का प्रवेश एक विद्यालय में करवाने गए तो उनसे कहा गया कि नसबंदी का केस लाइए तब प्रवेश मिलेगा। इस दौर में कहा जाता है कि कई स्थानों पर कुँवारों तक की नसबंदी कर दी गई।

          सन 1976 के आखिरी पाँच महीनों के दौरान देश के विभिन्न भागों में स्कूलों- कॉलेजों को बाकायदा निर्देश देकर संजय गाँधी के समर्थन में रैलियाँ आयोजित की गईं। इनमें भाग लेने के लिए छात्रों को निर्देश जारी किए गए। इन रैलियों की भीड़ के आधार पर यह मान लिया गया कि संजय गाँधी युवा हृदय सम्राट बन गए हैं। संजय गाँधी के विभिन्न शहरों में दौरे आयोजित किए गए। इनमें भी स्कूल- कॉलेजों में छुट्टी देकर छात्रों को संजय गाँधी की सभा में जाने के निर्देश दिए गए। मुझे भी इस प्रकार की रैली और सभा में भाग लेना पड़ा था। मुझे एक तो यह याद है कि संजय गाँधी ने उन लोगों से हाथ उठाने को कहा था जो दहेज नहीं लेंगे। लोगों द्वारा हाथ उठाए जाने पर उन्होंने उन्हें अपने विवाह के वक्त यह बात याद रखने के लिए कहा था। दूसरे उन्होंने कम्युनिस्टों को देश का दुश्मन और जनसंघियों को फासिस्ट बताया था। वर्ष 1976 के अंतिम महीने में तत्कालीन सरकार को यह खुफिया रिपोर्ट दी गई कि चुनाव होने पर कांग्रेस पुनः आराम से सत्ता में आ जाआएगी। इसी आधार श्रीमती इंदिरा गाँधी ने 18 जनवरी 1977 के दिन नए चुनाव कराने की घोषणा की।

          मार्च 1977 में यह चुनाव आयोजित हुए। यह चुनाव जनता और विपक्षी दलों के लिए मुँहमाँगी मुराद की तरह था। कांग्रेस के विरोधी प्रमुख दलों ने आपस में विलय कर जनता दल बनाया । दूसरी तरफ आपातकाल के कांग्रेसी शासन से क्षुब्ध, देश विशेषकर उत्तर भारत की जनता कांग्रेस को सत्ता से हटाने के लिए कटिबद्ध थी। मुस्लिम समुदाय भी नसबंदी अभियान के कारण विशेषकर कांग्रेस के पूरी तरह विरुद्ध हो चुका था।

          नतीजा यह हुआ कि मार्च 1977 में आयोजित आम चुनाव में कांग्रेस की बुरी तरह हार हुई । श्रीमती इंदिरा गाँधी और संजय गाँधी दोनों ही अपने-अपने चुनाव क्षेत्रों से चुनाव हार गए। मैं एक मुस्लिम बहुल मोहल्ले के पास रहता था। वहाँ ट्रान्ज़िस्टर पर चुनाव बुलेटिन सुनते हुए लोगों को मैंने हर परिणाम आने पर खुशी से उछलते, एक दूसरे के हाथ पर हाथ मारते और हाथ मिलाते हुए देखा। मैंने एक व्यक्ति को दूसरे के हाथ पर हाथ मारकर कहते हुए सुना-"लाख से नीचे बात मत करो यार " अर्थात प्रत्येक उम्मीदवार कम से कम एक लाख वोटों से हार रहा था।

          चुनाव में कांग्रेस की हार हो जाने के बाद 23 मार्च 2015 के दिन आपातकाल की समाप्ति की घोषणा गईं। इसके साथ ही स्वातंत्र्योत्तर भारतीय इतिहास का एक काला अध्याय समाप्त हो गया। इसे कुछ लोगों ने दूसरी आजादी की भी संज्ञा दी। 

          पर जनता पार्टी के शासनकाल में पनपी अनुशासनहीनता, विभिन्न घटकों की आपसी सिर फुटौव्वल और दंगों के कारण जनता का जनता पार्टी से मोहभंग होने लगा। 1979 के मध्यकाल में जनता पार्टी का विभाजन हो गया। मोरारजी देसाई की सरकार गिर गई और चौधरी चरण सिंह की सरकार बनी। यह सरकार इंदिरा गाँधी की सफल रणनीति के कारण एक भी दिन संसद का सामना किए बगैर गिर गईं। जनता पार्टी की अकर्मण्यता से क्षुब्ध जनता ने इंदिरा गाँधी की आपातकाल संबन्धी गलती को भुलाकर एक बार फिर सन 1980 में इंदिरा गाँधी को देश का प्रधानमंत्री चुन लिया। जनता पार्टी की असफलता को लेकर जनता सरकार में विदेश मंत्री रहे श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने निम्नलिखित गीत लिखा- 
      दीप जलाया रची दीवाली ।
      फिर भी मिटी न अमावस काली।। 
      हुआ आवाहन स्वर्ण सवेरा रूठ गया। 
      एक सपना देखा था मैंने, सपना मेरा टूट गया।।

Wednesday, 24 June 2015

Lalit Modi is sign of a greater malaise

          Lalit Modi is a sign of a greater malaise of our nation and that is the nexus of politicians with affluent buisnessmen,corporates and industrialists. Both sections live for and thrive on power and money. Therefore they complement one another. Politicians need money for their political activities including the greatest show of politics called election. Here the affluent help the politicians. Naturally the obliged politicians help the affluent and facilitate their business, corporate and industrial activities as well as interests and sometimes also help them gain power.There are a few politicians and affluent who are masters at creating politician-affluent nexus and they are valued as well as envied by their peers.

          BCCI is a very good example of above described political- affluent nexus. This body itself is one of the most powerful and rich sports bodies of the world. What have politicians like Sharad Pawar,Arun Jaitley, Lalu Prasad Yadav,Rajiv Shukla and industrialists like Jagmohan Dalmiya, A C Muthaiya and N. Srinivasan got to do with cricket ? Only that they have been associated with the BCCI or other cricket bodies of the country and controlled them.Question arises why roles occupied by these politicians and industrialists is not given to giants of cricket world like Bishen Singh Bedi, Sunil Gavaskar and Kapil Deo. They could have served the cause of cricket better.

          The answer is obvious.The politicians and industrialists would prefer to keep and control the rich and powerful cricket body themselves and complement one another in this job.

         Lalit Modi represented not only the affluent corporate world at BCCI, he was a master manipulator, adept at creating nexus with the politicians as well as nouveaue riche and present day nobility of India. His background also helped him in this. That is why his lawyer proclaimed him to be belonging to the family of Great Sir Raibahadur Modi at his press conference.

          With the IPL jamboree, Lalit Modi converted cricket into a show biz with sexy cheerleaders and late night parties with inbuilt thrill of 20-20 cricket and he was hailed as a great sportsmind, a showman with great business acumen untill he fell foul with the powers that be of his time.

           Thereafter he became a fugitive albeit with the help of his politician friends.Despite of all the charges against him he has been sitting pretty at England. No-one made any effort for his extradition nor interpole was asked to pursue him. Suddenly the political class discovers now that the man has been pulling wool over their eyes. The question arises if really this discovery is so sudden or questions have been raised now only when it has been found that it could be politically profitable. It puts a question mark over the honesty of intentions. Leaving aside the minor political players, political class as a whole has hobnobbed with the the persons like Lalit Modi 

          However question of impropriety can not be suppressed. And here B J P is failing to prove that it is different from Congress. Preference was given to old ties over the public institutional responsibility and propriety. Even if it is a case of overlook, it raises question over the use of discretion by persons who are at the helm of affairs. While BJP needs to think over how to control the damage, political class as a whole should think over how to get the Indian system free of the malaise of obligation and counter obligation as well as nexus of the politician with the facilitator. 

Sunday, 21 June 2015

योग पर राजनीति!

             आज 21 जून ,2015 का दिन ऐतिहासिक है जब संपूर्ण विश्व इसे योग दिवस के रूप में मना रहा है और मनुजमात्र की शारीरिक -आत्मिक स्वस्थता  लिए भारत की इस प्राचीन देन के प्रति आभारपूर्ण स्वीकार्यता व्यक्त कर रहा है। निःसंदेह इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को है जिन्होंने इस आशय का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र संघ के समक्ष रखा था और उनके साथ-साथ संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव बान की मून तथा दुनिया के अन्य तमाम देशों को भी है जिन्होंने इस प्रस्ताव का समर्थन किया तथा इसे अमली जामा पहनाया।

          परंतु यह कष्टप्रद है कि इस अवसर को हम एक ऐसे अवसर के रूप में बदलने के रूप में असफल रहे जब पूरा देश अपनी इस थाती पर गर्व करता और एक नजर आता। देश के सभी विपक्षी दल तथा विपक्षी सरकारें (आप पार्टी तथा केरल में मुस्लिम लीग को छोडकर) देश में योग दिवस के कार्यक्रम से उसे भारतीय जनता पार्टी का कार्यक्रम मानते हुए दूर रहे। यहाँ देश की सरकार के ऊपर यह सवाल उठता है कि क्या उन्होंने अपनी तरफ से कोताही बरती और विपक्षी दलों को यह समझाने में असमर्थ रहे कि यह कार्यक्रम सभी भारतीयों का है। यदि सरकार की तरफ से कमी रही हो तो भी यह विपक्षी दलों की समझ पर सवाल खडा करता है कि क्यों वे आप पार्टी की तरह समझदारी प्रदर्शित नहीं कर सके। एक बडा संभावित कारण यह हो सकता है कि बिहार के चुनावों को देखते हुए कांग्रेस, जनता दल (यू) और रा.ज.द. इस फेर में हों कि उन्हें इस कारण अल्पसंख्यक वोटों का लाभ प्राप्त होगा।पर देश में इनके अलावा अन्य तमाम दल हैं वे क्यों योग कार्यक्रमों से दूर रहे यह शोचनीय है।

          एक टी वी कार्यक्रम में एक मौलाना साहब को यह कहते हुए सुना कि यदि राजपथ पर संपन्न योग कार्यक्रम में यह भी घोषणा कर दी गई होती कि मुस्लिम धर्मावलंबी ओम के स्थान पर अल्लाह का उच्चारण कर सकते हैं तो इससे दुनिया में भारत की एकता का संदेश जाता।मुझे मौलाना साहब की बात जायज लगी।यदि इतनी भी घोषणा की जाती कि किसी योगविधि से आपत्ति होने पर लोग उस दौरान मौन या शांत रह सकते हैं तो उतना भी पर्याप्त होता। जब हम सबको समाहित कर सर्वहित के उद्देश्य से कोई कार्य कर रहे हैं तो उस दृष्टिकोण से हमें कुछ समायोजन भी करना चाहिए। हमारा कार्यक्रम किसी धर्मविशेष से जुडा हुआ नहीं लगना चाहिए।

          मैं आप पार्टी और केरल की मुस्लिम लीग के नेताओं के योग के बारे में स्वस्थ दृष्टिकोण की सराहना करता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि कम से कम अगले वर्ष अगले योगदिवस पर भारतवर्ष के सभी राजनीतिक दल समझदारी का प्रदर्शन करते हुए विश्व को अमूल्य धरोहर के रूप में सौंपे गए योग पर राजनीति नहीं करेंगेऔर इसे संरक्षित तथा पुष्पित-पल्लवित करने में योगदान करेंगे। 

Wednesday, 10 June 2015

योग-दिवस का सांप्रदायिक विरोध

उद्योगपति राजीव बजाज के अनुसार योगगुरू  बी.के.एस. आयंगार ने एक बार उनसे कहा था -

           "प्रबंधन और योग  संरेखण मात्र से संबंधित हैं - एक हिस्से को दूसरे हिस्से से मिलाना, सभी हिस्सों को समग्रता के साथ एकाकार करना और इस समष्टि को एक वृहत उद्देश्य के साथ एकाकार करना।"

           मैं नहीं समझ पाता हूँ कि योगगुरु आयंगार द्वारा बताई गई उक्त परिभाषा में धर्म कहाँ से आ जाता है। अपने मन और शरीर की बेहतरी के लिए किए जाने वाले योग को जिसे संपूर्ण विश्व शून्य के समान भारत द्वारा सौंपी गई धरोहर के रूप में स्वीकार कर चुका है, धर्मविशेष के साथ जोडने वाले निश्चय ही भ्रमित हैं और इसका कारण जानकारी का अभाव है। योग शब्द का भारतीय परंपरा में व्यापक और विस्तृत  व्यवहार किया गया है तथा इसकी विविध परिभाषाएं और मत-मतांतर मिलते हैं । परंतु इतना तो सुस्पष्ट है कि  शारीरिक योग;  योग की धार्मिक धाराओं राजयोग, सांख्ययोग, हठयोग,ज्ञानयोग , भक्तियोग और कर्मयोग से अलग है । अगर शारीरिक योग के साथ धार्मिक दृष्टि से कहीं कुछ आपत्ति की बात हो सकती है तो वह ओम के उच्चारण और ध्यानस्थ होने पर हो सकती है। पर यदि आप ध्यानस्थ निर्विकार भाव से होते हैं, जहाँ उद्देश्य मन को उस अवधि के लिए विचारशून्य बना देना है तो इसमें किसी की धार्मिक आस्था का क्षरण कहाँ से हो जाता है? फिर देवबंद इस बारे में कह भी चुका है कि ओम के उच्चारण के दौरान मौन रहिए या अल्लाह का उच्चारण करिए। मौन रह कर ध्यानस्थ होने में देवबंद को भी कोई आपत्ति नहीं है। फिर भी कुछ समझ में नहीं आता तो चुपचाप अलग रहिए। पर समस्त भारतीयों के लिए एक गौरव का जो दिवस आया है जब पूरी दुनिया योग -दिवस मना कर भारत के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करेगी तो विरोध में चिल्लाने और शोर मचाने वाले यही दर्शाते हैं कि  आप से तो सऊदी अरब और ईरान भले हैं जो इस दिवस को मनाने जा रहे हैं।योग दिवस का विरोध नितांत सांप्रदायिकता है और कुछ नहीं।

         खैर चलिए, छोडिए इन छाती पीटने वालों को।  इन्हें छोड हम सब दृढ्प्रतिज्ञ हों कि नित्यप्रति शारीरिक योग के क्रम का पालन कर स्वयं को स्वस्थ रखेंगे ताकि हम कभी अपनों के ऊपर और समाज के ऊपर बोझ न बनें और जब तक जिएं स्वस्थ रहें!


Sunday, 7 June 2015

हिंदी में रोमन स्क्रिप्ट का प्रयोग कर टाइप कैसे करें?

हिंदी में रोमन स्क्रिप्ट का प्रयोग कर टाइप कैसे  करें?
(यदि इस पोस्ट को बेहतर बनाने के संबंध में  किसी का कोई सुझाव है तो उसका स्वागत है)

         हिंदी में टाइप करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा इंडिक इनपुट-1, इंडिक इनपुट-2 एवं इंडिक इनपुट-3 नाम के टूल उपलब्ध कराए गए हैं । यह प्रयोग करने वाले को क्वर्टी कीबोर्ड पर भारतीय भाषाओं में टेक्स्ट अंकित करने की सुविधा प्रदान करते हैं। इनका प्रयोग विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम पर ऑफिस एप्लीकेशन ,वर्डपैड  एवं नोटपैड के लिए किया जा सकता है। यह ऑन-दि-फ्लाई हेल्प, विविध कीबोर्ड लेआउट एवं भाषाओं के बीच टॉगल करने की सुविधा प्रदान करते हैं।

इंडिक इनपुट- 3 किनके लिए है?
  • जो विंडोज 8 ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग करते हैं उन्हें इसका प्रयोग करना चाहिए।
  • इसके लिए आवश्यक सिस्टम हैं- विंडोज विस्ता, विंडोज 7 अथवा विंडोज 8
  • यह टूल 64 बिट ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ काम करने में सक्षम है।


इंडिक इनपुट- 2 किनके लिए है?
  • नए  ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग करने वालों को इसका प्रयोग करना चाहिए।
  • यह विंडोज विस्ता, विंडोज 7 अथवा विंडोज सर्वर 2008 के 32 बिट संस्करण के लिए उपयुक्त है।
  • यह विंडोज एक्स पी ,विंडोज विस्ता, विंडोज 7, विंडोज सर्वर 2003 अथवा विंडोज सर्वर 2008 के 64 बिट संस्करण के लिए भी उपयुक्त है।


इंडिक इनपुट- 1 किनके लिए है?
  • पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ काम करने वाले इसका प्रयोग कर सकते हैं।
  • यह विंडोज 2000,विंडोज एक्स पी एवं विंडोज सर्वर  2003 के 32 बिट संस्करण के लिए उपयुक्त है।
  • यह नए ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम नहीं करता।



विंडोज में हिंदी सपोर्ट एनेबल करना 
         अपने कंप्यूटर में विंडोज 7 होने की स्थिति में Start  एवं Programme Menu से होते हुए Control Panel में जाएं | यदि आप विंडोज 8 सिस्टम का प्रयोग करते हैं तो Settings  के माध्यम से Control panel  में जाएं। वहाँ Reigonal Language ऑप्शन को सक्रिय करें | यहाँ मनोवांछित भाषा पर क्लिक कर Add बटन पर क्लिक करें। यहीं पर आपको जो  Keyboard चाहिए उसके लिए Input method में जाकर (Windows 8 सिस्टम होने पर, यदि  आप windows 7 सिस्टम का प्रयोग करते हैं तो Change Keyboard बटन पर जाएं)  मनोवांछित keyboard पर क्लिक कर Add बटन क्लिक करना होगा । यहाँ यह ध्यान रखिए कि रोमन स्क्रिप्ट के माध्यम से हिंदी या अन्य भारतीय भाषा टाइप करने के लिए जिस  का प्रयोग किया जाता है उसे विंडोज द्वारा Transliteration का नाम दिया गया है।
         यदि आपको अपने सिस्टम में Transliteration input method/keyboard का ऑप्शन नहीं मिलता है ( यह समस्या प्राय: विंडोज 8 में देखने को मिलती है) तो इंटरनेट कनेक्ट कर   www.bhashaindia.com  पर जाइए। इसके बाद download में hindi  में जाइए । अपने कम्प्यूटर के operating system जैसेकि windows 7 या windows 8 जो भी हो उसके हिसाब से 32 bit या 64 bit का जैसा भी आपका कंप्यूटर और उसका सिस्टम हो  hindi indic input 2 या 3 को चुनकर डाउनलोड कर इंस्टाल कर लीजिए। इंस्टाल करने के लिए डाउनलोड करने के बाद फाइल को अनजिप कर ‘setup e.x.e.(setup Zip)” फाइल को  run कर दें। ऐसा हो जाने के बाद सिस्टम को रिबूट कर दें। अब अपने डेस्कटाप पर नीचे दाईं तरफ देखिए। विंडोज 8 सिस्टम होने की स्थिति में हिंदी/ ‘Eng’ लिखा हुआ मिलेगा। आप इन ऑइकॉन पर क्लिक करके अथवा विंडोज key  के साथ स्पेसबार पर क्लिक कर टॉगल करते हुए हिंदी अथवा अंग्रेजी में काम कर सकते हैं । यदि आप विंडोज 7 का प्रयोग कर रहे हैं तो ऑइकॉन ‘EN’ / HI’ के रूप में दिखेगा। आप जिस भाषा में टाइप करना है उस पर क्लिक करें अथवा Alt+ Shift पर क्लिक करते हुए टॉगल करें। सम्बंधित भाषा में जाने के बाद आपको जो कीबोर्ड चाहिए उस पर क्लिक करें।  हिंदी में कीबोर्ड के लिए आपको  hindi traditional , hindi Remington और transliteration का option मिलता है। transliteration का option choose करके रोमन कीबोर्ड में हिंदी शब्द अंग्रेजी स्पेलिंग के हिसाब से टाइप करने पर हिंदी में खुद बखुद टाइप हो जाएगा । यदि आपने फोनेटिक कीबोर्ड विंडोज के माध्यम से एनेबल न कर www.bhashaindia.com से डाउनलोड किया है तो वह  transliteration के नाम से न दिखाई देकर Hindi Indic Input  2 अथवा  3 के नाम से दिखेगा । जब भी आप फोनेटिक विधि से हिंदी में कोई लेटर टाइप करेंगे, आपकी सहायता के लिए फ्लोटिंग कीबोर्ड उपलब्ध हो जाएगा जिसमें उस लेटर पर हिंदी की विभिन्न मात्राएं किन  key  का प्रयोग कर लगाई जानी हैं यह दर्शाया रहेगा। यदि आप चाहें तो फ्लोटिंग कीबोर्ड के ऊपर कोने के  क्रॉस पर क्लिक कर फ्लोटिंग कीबोर्ड को हटा सकते हैं । ठीक प्रकार से टाइप करने के लिए कुछ नियमों का पालन करना होगा जो आगे बताए गए हैं।
          स्वरों और व्यंजनों को  निम्नलिखित अनुसार key दबा कर टाइप करना पडेगा । आगे जहाँ भी capital letter दिया गया है वहाँ key को दबाने के साथ shift key को भी दबाना है। 
स्वर
अ-a     आ-aa   इ-i      ई-ee अथवा I      उ-u     ऊ-U अथवा oo  ऋ-R   ए-e    ऐ- ai  ओ-o   औ-au     अं- a^ (a और shift के साथ 6)    अ:  - a:  ऑ-O

व्यंजन
क-ka      ख-kha      ग-ga     घ- gha     च-cha       छ-chha       ज-ja       झ-jha         ट- Ta    ठ- Tha    ड-Da      ढ- Dha    ण- Na      त-ta   थ-tha    द-da     ध-dha   न-na    प-pa    फ-pha   ब-ba   भ-bha    म-ma

य-ya   र-ra    ल- la   व-va या wa    श-sha     ष -Sha     स-sa   ह-ha  क्ष-kSha या X a      त्र- tra  ज्ञ- Gya     ड़- D_ (shift के साथ d+underscore)    ढ़- Dh_ (shift के साथ d+h+underscore ) 

पूर्णविराम की मात्रा
Shift +  \
( यदि किसी भी व्यंजन को आधा करना है अथवा उस पर मात्रा लगाना है तो उस पर बाद में दिए गए  a न लगाएं । इसी प्रकार किसी भी स्वर के लिए बाद में ए लगाने की जरूरत नहीं होती)

व्यंजनों पर स्वरों की मात्राएं लगाना
          किसी भी व्यंजन पर किसी स्वर की मात्रा लगाने के लिए वह व्यंजन टाइप करने के बाद उस स्वर को टाइप करने के लिए जो key आवश्यक हैं उन्हें प्रयोग करें, इससे मात्रा टाइप हो जाएगी।

अक्षरों से मिला कर शब्द बनाना

         ऊपर देखिए हर लेटर के बाद में a टाइप किया जा रहा है। पर अगर लेटर को आधा टाइप करना हो तो a टाइप करने की जरुरत नहीं है। किसी भी शब्द के आखिरी लेटर के बाद भी a टाइप करने की जरुरत नहीं है। जहाँ भी लेटर कैपिटल दिया गया है वहाँ shift key दबा कर उस लेटर की key दबाना है। जब किसी स्वर की मात्रा लगानी हो तो संबंधित स्वर के लिए दी गई key दबाएं। जब भी मात्रा लगाई जाती है तो उसके बाद a की key दबाने की जरूरत नहीं होती।
अभ्यास
         नीचे कुछ शब्द और उन्हें टाइप करने के लिए आवश्यक key दी गई हैं। इन्हें टाइप करने का अभ्यास कर अन्य विभिन्न शब्द इसी भाँति टाइप करने का प्रयास करें।
कमल-kamal

रतन-ratan
रत्न‌‌- ratn
राम-raam
रमा-ramaa
कक्षा-  kakShaa या  kaXaa
जामा-jaamaa
श्यामा-shyaamaa
डॉक्टर-DOkTar
किताब- kitaab
कील-  keel अथवा kI(कैपिटल आई) l(एल)
पानी- paanI  
सुंदर- su^dar
चुम्बक - chumbak 
पूरा-pUraa
चूरन-chUran
केला- kelaa
खेला-khelaa
सैर-sair
कैलाश-kailaash
कोडा-koDaa

घोडा- ghoDaa
दौडना-dauDanaa
खौलना-khaulanaa

पृथ्वी- pRthwI
सृजन-sRajan

संत -sa^t

माँ-maaM( चंद्र्बिंदी लगाने के लिए shift के साथ m)

कर्म-karm
कर्मकार- karmakaar
अर्पित- arpit
क्रम-kram
ग्रहण-grahaN

प्रार्थना-  prarthanaa

अभ्यास करते-करते आप गति प्राप्त कर लेंगे।

माइक्रोसॉफ्ट इंडिक लैंगुएज इनपुट टूल  (Microsoft Indic Language Indic Language Input Tool)
          जिन लोगों को हिंदी लिखने- पढने का अभ्यास नहीं है अथवा हिंदी में काम करते समय आत्मविश्वास का अभाव है वे माइक्रोसाफ्ट इंडिक लैंगुएज इनपुट टूल का प्रयोग कर हिंदी टाइप कर सकते हैं। इस टूल में उच्चारण के अनुसार रोमन स्क्रिप्ट में टाइप करने पर तीन -चार शब्दों का आप्शन दिखाई देता है । आप सही आप्शन पर क्लिक कर वह शब्द प्राप्त कर लेंगे। इसे भी bhashaindia.com से डाउनलोड कर सकते हैं। इसे डाउनलोड करने के बाद आपको डेस्कटाप पर नीचे दाईं तरफ इसका ऑइकॉन के रूप में दिखाई पडेगा।