hamarivani.com

www.hamarivani.com

Sunday, 19 April 2015

Netaji's probable escape in 1945 and Gumnami Baba legend.

          Someone questioned me , how can Netaji Subhash Chandra Bose's probable escape to Russia In 1945 ( In case the Taihoku air crash did not take place as concluded by the Mukherjee Commission) can be reconciled with Gumnami Baba legend. I've made an effort as given below.There are missing links which I've made efforts to create on the basis of probabilities and available evidences.

          There is an article ' Prisoner of Yakutsk' by Yatish Yadav available at newindianexpress.com. The article discusses Netaji being in Russia under imprisonement after 1945. The article quotes evidences presented by Shri Satya Narayan Sinha an M.P. before the Khosla Commission  in support of the argument. Shri Satya Narayan Sinha served in various capacities- as a secretary to Pt. Nehru, as a secret agent of the Indian Govt., for two years he was a meber of  Indian foreign Service. Shri Sinha said that a Russian secret agent Kozovo informed him about Subhash Chandra Bose being imprisoned at Yakutsk in U.S.S.R.

         If it is correct as mentioned in the article that Netaji was imprisoned at Yakutsk then most probably he came back to India after 1956. What is the reason of my assumption I am discussing below. The article by Yatish Yadav mentions Khrushchev's visit to India in 1956 . At that time Shri Satya Narayan Sinha who was acting as an interpreter for Khrushchev requested him to make Netaji return to India so that Indo-Russian friendship improved further. Shri Satya Narayan Sinha also mentioned that one Chinese source told him that only Nehru could get Subhash Chandra Bose repatriated to India. It also indicated that some talk related to Netaji's return was going on between India and Russia, otherwise Satya Narayan Sinha in his capacity of an interpreter had no rhyme or reason to speak about this to Khrushchev.  This trashes the theory of Netaji's execution by Stalin ( as said by Shri Subramanyam Swami)  who himself died in March 1953. Prior to Khrushchev's visit, Nehruji had visited Russia in 1955 and most probably he would have had some discussion about Netaji also  in the light of a letter of Netaji to Nehru mentioning that he was in Russia and wanted to escape to India ( It is mentioned in a secret report of British Secret Agent Major Hugh Toys. Major Hugh also indicated that this fact was known to Gandhiji and Netaji's elder brother Sharat Bose. He also mentioned that Russian Ambassador to Kabul/Tehran had informed the Governor of Afghan province of Khost that Subhash Chandra Bose was in Moscow as a refugee). Involvement of Indian Govt. in all this is indicated by Netaji researcher Anuj Dhar when he tells about a source with direct access to the PMO telling him "We were in touch with him(Netaji) till 1985."  Here it is notable that Gumnami Baba expired on 16 of September,1985. After Gumnami Baba expired the district authorities took his body in their possession and ensured his cremation without any fun fare within the ambit of darkness in presence of a few persons who were in touch with Gumnami Baba.This also indicated that the Govt. ensured that Netaji resided without any problem ,safely and in isolation. It seems  that Netaji would have been repatriated to India after some sort of tripartite agreement/understanding between Nehru Govt.,the U.S.S.R. Govt. and Netaji. An important feature of this agreement must have been Netaji's promise/desire of living away from the public eye in isolation.In his youth also at some point Netaji wanted to become an ascetic.

          Among the articles of Gumnami Baba a map has been found which detailed the return route to India from Russia via China,Tibbet and Nepal. Since Russia and China cover a major portion of this route , it is improbable that return of Netaji was possible without knowledge of these countries. Since India had good relations with Russia as well as China in 1956, it would have been possible at that time.

          Here it is notable that the above source Anuj Dhar mentioned, told him that the Govt. was keeping facts under wraps for fear of triggering a political earthquake at home, apart from complications on the foreign front. The source told Anuj that the Govt. held precise records about what became of Netaji and the PMO had a file with key to unravel the mystery. The source clearly told Anuj that Netaji had gone to Russia.

          As reported by Mukherjee Commission , Gumnami Baba had English and Bengali handwritings similar to those of Netaji and it was confirmed by an expert B. Lal although a few other experts did not agree. A few family members of Netaji, some I N A members and a few other Bengali people visited him(as deposed before Mukherji Commission) . From one of the Kolkatans once Gumnami Baba enquired about Bahadur, a personal guard at Netaji's home in Kolkata and once about a picture of Kaliji that was in Netaji's home. At least one Kolkatan Shri Sunil Kumar Gupta testified before the Mukherjee Commission that Gumnami Baba whom he had met, was indeed Netaji. When questioned by the Commission why he did not testify the same before the Khosla Commission he replied that at that time he was under oath to not disclose the information. Mukherji Commission went for the DNA test of five No. of teeth found in the room of Gumnami Baba and the DNA test didn't match with the DNA of the family members of Netaji. Probably due to this Mukherjee Commission was deterred from making any declaration regarding Gumnami Baba. However it is not necessary that found teeth were of Gumnami Baba. As a last resort ashes of Gumnami Baba should be exhumed from his SAMADHI and a DNA test should be conducted and at the same time DNA test of the ashes being told of Netaji in Rencoji temple (which according to Mukherjee Commission are of some Japani Soldier)  should also be conducted to solve the mystery.

The article by Yatish Yadav quoted in the beginning is as given below.Some portion is not there. For complete article one can visit the source.

-The prisoner of Yakutsk-
(Quoted from newindianexpress.com with thanks, an article by Yatish Yadav)

         When he was alive, Netaji Subhas Chandra Bose was an enigma. His death in an alleged plane crash on August 18, 1945, in Taiwan remains a mystery wrapped in enigma. Sixty-nine years later, declassified files on the inquiries into Bose’s death indicate that he died alone in a Soviet prison in Siberia where over 516,841 perished under Joseph Stalin’s rule. The evidence, presented by a whistle-blower and now deceased Congress MP and diplomat Dr Satyanarayan Sinha in 1952, throws up too many uncomfortable questions, which could upset the established notion that Bose died in that crash and it is his ashes that rest in Renkoji Temple in Japan. Two inquiry reports by Shah Nawaz Committee and one-man GD Khosla Commission, set up in 1956 and 1970 by the Congress governments led by Jawaharlal Nehru and his daughter Indira Gandhi respectively, concluded that Bose died in a plane crash at Taihoku airport.

          The declassified documents and exhibits in the National Archives raise serious doubts about the veracity of these reports. However, the third and last report of the Mukherjee Commission established in 1999 had trashed the probe findings, though it doesn’t explain what exactly happened to Netaji. But the NDA government too did not disclose the new findings which were disowned by the UPA government, which chose to accept the findings of two previous reports. Sinha’s deposition before the Khosla Commission disclosed that Netaji was imprisoned in cell number 45 of Yakutsk Prison in Siberia, where over half a million slave labourers perished; Yakutsk is the coldest city on earth. But mysteriously, the committee decided not to probe Sinha’s testimony. Very few prisoners in Yakutsk survived the brutal conditions, but a former NKVD agent, Kozlov, who was rehabilitated later by the Soviet government, told Sinha about meeting Bose in Siberia. Sinha had an adventurous career, serving in the Russian Army in 1932 as an interpreter; he even fought in the battle of 1935-36 on the side of the Italians in Ethiopia before he became an aide to Nehru.

          On October 17, 1970, Sinha, then in his 60s, was summoned before the Khosla Commission constituted by Indira. The files running into hundreds of pages reveal that Sinha had a trove of information regarding Netaji. He told the commission that Netaji did not die in the plane crash and was imprisoned by the Soviets in Siberia. This was Sinha’s first appearance before the commission and under oath, he testified that in 1954, he met Kozlov in Moscow, who told him that Netaji was lodged in Yakutsk Prison. It appears from the proceedings that the commission had received overwhelming evidence from Sinha but ultimately decided to ignore them.

Excerpts from the proceedings regarding the meeting between Kuzlov and Subhas Chandra Bose:

Khosla Commission: I want you to be more specific about this information which you received. Who gave you the information and what were the exact words used by him as far as you can remember?

Sinha: Kuzlov was the name of the man who was connected with the training of Indians till 1934. The same man was later treated by Stalin as a Trotskyist and sent to Yakutsk prison. From there, after the war, he had come back. I met him in Moscow. He said that he had seen Bose in Cell No. 45 in Yakutsk.

Commission: Did he name Bose or did he say some important Indian?

Sinha: He knew Bose. He had been a Soviet agent in India in 30s. He had met Bose in Calcutta and he knew his residence.

          British India was crawling with spies of all nationalities, notably the Russians and Germans. ‘The Great Game’—a term coined by the English spy and cavalry officer Arthur Conolly—was raging as a conflict between the British and the Russian empires for supremacy in Central Asia. Afghanistan was the buffer state both wanted to control. The British believed that the Russians, both before and after the revolution, wanted to annex India. Stalin had even sent two British Communists to India to lead the disorganised Indian Communists to revolt against British rule, and create a red India. Their efforts failed and both were captured. Naturally, many Indian freedom fighters believed that Russia would help them overthrow the British. In 1940, Bose who disagreed with Mahatma Gandhi’s peaceful protest principle escaped house arrest and fled to Russia through Peshawar, with the help of German Intelligence agents operating in India. Since the USSR, on the surface, maintained diplomatic relations with the UK, Stalin was reluctant to give asylum to a man the British considered a traitor and a subversive. However, he helped Bose escape to Germany from where he reached Japan. The transfer of Bose in African waters from a German submarine to a Japanese sub is the only submarine-to-submarine transfer of any person during World War II.

DID NEHRU KNOW BOSE WAS ALIVE?

          Sinha, who was elected to the first Lok Sabha in 1952 from Bihar, made scathing observations in Parliament indicating a cover-up in the Netaji probe at the top levels in the Indian government. Born in 1910 in Bihar, Sinha had been tasked by Nehru to report on the political situation in Europe in 1947. Sinha told the commission that he got the funds from Nehru’s personal account in The National Herald and it was through Nehru confidant Rafi Ahmed Kidwai that he received money for his travel and investigations. In this capacity as an informal secret agent, he travelled to Germany, Italy, France and Yugoslavia before joining the Indian Foreign Service in 1950 and served as First Secretary in the Indian legation in Berne, Switzerland. Sinha told the Khosla Commission that he had gathered further evidence from Russian spies that Bose was living in captivity in Russia, which he had already informed Nehru in 1950. Sinha began probing into Netaji’s disappearance in 1949. In 1950 in Leipzig, Germany, he had met Karl Leonhard, a former Abwehr spy who had served time in Siberia, after Germany lost the war in USSR. Leonhard reportedly told Sinha: “I have come to know that your leader Bose is also a prisoner.”

          Sinha deposed that in a meeting with Nehru on April 13, 1950, he had given the prime minister the new information, but Nehru was disinterested. Though initially relations between USSR and India were cool after 1947, Stalin, who had refused to meet the Indian Ambassador to Moscow Vijayalakshmi Pandit, gave an audience to Sarvepalli Radhakrishnan, who was then the Indian envoy. Stalin also offered a treaty of friendship between both countries. The USSR then supported India on the Kashmir issue. Nehru visited Soviet Union in 1955 and in return Premier Nikita Khrushchev and Defence Minister Nikolai Bulganin visited India in 1956. Meanwhile, Indo-US relations had cooled and the USSR stepped in with technological and economical aid. On the 1962 India-China war, the USSR blamed China as responsible for the war. India started buying Soviet arms in 1963 on a large scale when Nehru was PM.

Khosla Commission: Did you meet him (Nehru) in Delhi or elsewhere?

Sinha: In Delhi.

Commission: You went to see him and told him that a Russian had given you this information?

Sinha: Yes, that is on 13th April, 1950.

Commission: What did Pandit Nehru say to that?

Sinha: He said that he would check up the matter. But he said, “I think, this is American propaganda.”

Commission: After that, did you take any further steps to enquire into the matter?

Sinha: I did. Another talk on this subject which I had with Pandit Nehru was on 16th January 1951 in Paris where there was the ambassadors’ meeting.

          Sinha also claimed that he had raised the issue with Radhakrishnan, who warned him that any further probe in the matter may harm his (Sinha’s) career. Sinha had worked as interpreter to Radhakrishnan while the latter was serving in Geneva. They had met on the sidelines of the ambassadors’ conference in 1951 in Paris. “He (Radhakrishnan) warned me that I should not meddle in these things. I asked him why. Then he said ‘you will be spoiling your career, you will not be anywhere’.”

          Sinha told the Khosla Commission that he was making the charges “with full responsibility to prove them before the commission and before the wide world.” Sinha also said that he did not believe that the government wanted matters regarding Bose to come out in the public domain. He said, “Nehru was a very very strong man. When Khrushchev came, I was acting as an interpreter. I asked him ‘Will you in your next visit bring Netaji with you? Then Russia and India will become best of friends.’”

          Sinha had also told the commission that Chinese officials had told him that Nehru was the only person who could repatriate Netaji.

THE COVER-UP

       In 2006, the Justice Mukherjee Commission report concluded that Netaji did not die in the plane crash at Taihoku airport and the ashes in the Japanese temple are not his, and that in the absence of any clinching evidence a positive answer cannot be given. Former Minister of State for Home Mullappally Ramchandran in a written reply on May 7, 2013, told Parliament that “the Government of India did not agree with the finding of Justice Mukherjee Commission of Inquiry (JMCI) that Netaji did not die in the plane crash. The government of India based on the reports of Shah Nawaz Committee and Justice Khosla Commission constituted on the question of the alleged death/disappearance of Bose came to the conclusion that Netaji died in the plane crash on August 18, 1945.”

          However, Sinha had accessed classified Soviet documents from Berlin that concerned Netaji’s death but was stopped by the government. Later he asked the Khosla Commission whether he could quote at least three lines from the documents, but it appears from the proceedings that the commission was not interested in listening to what Soviet intelligence documents had to say about Netaji and the topic was changed. 

Tuesday, 14 April 2015

क्या गुमनामी बाबा नेता जी सुभाषचंद्र बोस थे? (आलेख)


क्या गुमनामी बाबा नेता जी थे?
(12 अप्रैल को स्वयं द्वारा नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर लिखी गई पोस्ट के क्रम में आगे)

          आज के टाइम्स आफ इंडिया में संपादकीय पेज पर अधीर सोम का आलेख प्रकाशित हुआ है जिसमें उन्होंने यह सवाल उठाया है कि गुमनामी बाबा कौन थे?

          अपने उक्त आलेख में अधीर सोम ने जस्टिस मुखर्जी आयोग के उस निष्कर्ष का हवाला दिया है जिसमें यह कहा गया है कि 18 अगस्त, 1945 को ताइवान में कोई प्लेन क्रैश हुआ ही नहीं था और इस कारण उक्त तिथि को नेताजी की मृत्यु हवाई दुर्घटना में होने की पुष्टि नहीं होती है। आगे चलकर 2006 में यू पी ए सरकार ने जस्टिस मुखर्जी आयोग की रिपोर्ट को ही अस्वीकार कर दिया। यहाँ सवाल यह उठता है कि किन आधारों पर यू पी ए सरकार ने उक्त आयोग की रिपोर्ट को अस्वीकार किया? क्या उन्हीं राष्ट्रीय हितों और विदेशी सरकारों से संबन्ध खराब होने के भय के आधार पर, जिन आधारों पर आज एन डी ए सरकार नेताजी से संबन्धित कागजातों को डिक्लासीफाई करने से इन्कार कर रही है? या फिर यह कारण है कि एक तरफ तो विदेशी शक्तियाँ विशेषकर ब्रिटेन और अमेरिका इस बात पर एतराज जताएंगे कि कि द्वितीय विश्वयुद्ध के उनकी तरफ से घोषित युद्ध अपराधी को भारत सरकार ने छिपा कर रखा और दूसरी तरफ देश की जनता इस बात पर हल्ला मचाएगी कि नेताजी को जनता के सामने लाने के बजाय छिपाकर रखा गया और और स्वाभाविक तौर पर जनता की नजर में तत्कालीन कांग्रेसी सरकारों द्वारा अपनी सत्ता को सुरक्षित रखना इस अपराध का कारण होगा।

          आप सोच रहे होंगे कि मैं नेताजी को छिपाकर रखने की बात कहाँ से ले आया। इसका कारण जस्टिस मुखर्जी का आफ रेकॉर्ड बातचीत में यह कहा जाना है (जो किसी ने यूट्यूब पर अपलोड भी कर दिया है) कि उन्हें शत-प्रतिशत विश्वास है कि गुमनामी बाबा सुभाषचंद्र बोस थे। मैं प्राचीन इतिहास का विद्यार्थी रहा हूँ जहाँ प्रायः हमें लिखित इतिहास नहीं मिलता है और विभिन्न स्रोतों से तथ्यों की खोज कर इतिहास का निर्माण करना पड़ता है। अपने उस अध्ययन एवं अनुभव के आधार पर अगर जस्टिस मुखर्जी ऐसा कहते हैं तो मैं 99% यह मानने के लिए तैयार हूँ कि गुमनामी बाबा सुभाषचंद्र बोस थे।

          मैंने अपनी पिछली पोस्ट में अनुज धर द्वारा हवाला दिए गए पं जवाहरलाल नेहरू द्वारा 1957 में हस्ताक्षरित उस पत्र का उल्लेख किया है जिसमें वे नेताजी के भतीजे अमियनाथ बोस की टोक्यो यात्रा के दौरान उनकी गतिविधियों के बारे में रिपोर्ट करने के लिए कहते हैं , साथ ही इस बात के बारे में खास तौर पर बताने के लिए कहते हैं कि वे रेंकोजी टेम्पल जहाँ नेताजी के कथित अवशेष रखे हैं, गए अथवा नहीं। इसका उद्देश्य एकमात्र यह जानना हो सकता है कि नेताजी का परिवार उनकी मृत्यु की कहानी पर विश्वास करता है अथवा नहीं।

          गुमनामी बाबा के बारे में शोधकारों ने अब तक जो तथ्य खोजे हैं उनके अनुसार वे 1955 में गोरखपुर स्थित भारत-नेपाल सीमा क्रास कर भारत आए तथा सन 1955 से 1957 तक शृंगारनगर, लखनऊ और 1957 से 1963 तक नीमसार, सीतापुर में लोगों  की जानकारी या संपर्क में आए बिना पूरी तरह छिपकर रहे। सन 1963 से सन 1985 के दौरान उन्होंने फैजाबाद एवं अयोध्या तथा कुछ समय के लिए निकटवर्ती बस्ती  को अपना निवास स्थल बनाया। सन 1983 से 16 सितम्बर 1985 के दिन देहावसान होने तक वे  ठाकुर गुरुदत्त सिंह के फैजाबाद सिविल लाइंस स्थित घर में बिल्कुल पीछे की तरफ एक कमरे मे बतौर किराएदार रहे। इन दो वर्षों के दौरान ठा. गुरुदत्त सिंह या उनके घर के किसी सदस्य ने भी गुमनामी बाबा की शक्ल नहीं देखी । यह स्वयं में एक विचित्र लगने वाली बात है। गुमनामी बाबा किसी भी आगंतुक से परदे के पीछे से मिलते थे । सबको वे अपने पास आने या मिलने की इजाजत भी नहीं देते थे। केवल कुछ गिने- चुने लोगों को इसकी अनुमति थी और शायद फैजाबाद में ऐसे लोग संख्या में दो से अधिक नहीं थे जो उनसे प्रत्यक्ष रूप से मिलते थे। उनसे कुछ लोग 23 जनवरी या दुर्गापूजा के समय बंगाल से मिलने आते थे पर वह भी रात के अँधेरे में। कभी-कभी सरकार के कुछ बड़े लोग भी सरकारी गाडी में आते थे पर वह भी रात के अँधेरे में।

          16 सितम्बर को देहावसान होने के बाद उनका दाह संस्कार फैजाबाद के गुप्तारघाट पर, जहाँ रामचंद्रजी ने जलसमाधि ली थी, 13 लोगों की उपस्थिति में तिरंगे में लपेट कर वह भी रातोंरात अँधेरे में किया गया। इन 13 लोगों में जहाँ तक मेरी जानकारी है डॉ. आर एन. मिश्रा, डॉ. टी.सी. बनर्जी तथा श्री कृष्णगोपाल श्रीवास्तव भी शामिल थे । श्री कृष्णगोपाल श्रीवास्तव मेरे अध्यापक रह चुके थे तथा मेरी नजर में वे धीर-गंभीर स्वभाव के व्यक्ति थे। उनके द्वारा अनायास झूठ बोले जाने का कोई कारण मुझे नहीं दिखता। उन्होंने ही गुमनामी बाबा का दाह संस्कार हो जाने के बाद सर्वप्रथम किसी से रोते हुए यह बात कही थी कि फैजाबाद में गुप्तरूप से रह रहे सुभाषचंद्र बोस की मृत्यु हो गई है और फिर यह अखबारों में छपी । फिर कुछ लोग गुमनामी बाबा पर शोध करने में लग गए। पर सारे शोध जैसे कि किसी बंद गली के आखिरी छोर तक पहुँच कर समाप्त हो जाते हैं। इसी कारण जस्टिस मुखर्जी आयोग ने भी अपनी रिपोर्ट में गुमनामी बाबा के नेताजी सुभाषचंद्र बोस होने की संभावना मात्र को संकेतित किया है।

          अधीर सोम ने अपने आलेख में बड़ा मौजूँ सवाल उठाया है कि अगर गुमनामी बाबा नेताजी नहीं थे तो आखिर कौन थे । निश्चय ही इस परिप्रेक्ष्य में कि गुमनामी बाबा के सामानों ( 25 ट्रंकों में यह सामान फैजाबाद जिला ट्रेजरी में न्यायालय के आदेशों के अनुसार बंद है) में नेताजी के आजाद हिंद फौज और परिवार संबन्धी फोटोग्राफ तथा उनकी निजी सी लगने वाली वस्तुएँ हैं, यह रहस्य और गहरा जाता है।

Sunday, 12 April 2015

नेताजी सुभाषचंद्र बोस के घर की निगरानी के संभावित कारण

          महाराष्ट्र सिविल सेवा के अधिकारी एवं मराठी के सुविख्यात लेखक  विश्वासराव पाटिल की "महानायक",  जो उन्होंने नेताजी सुभाषचंद्र बोस के बारे में छ: वर्षों तक शोध करने के बाद लिखी है, पढ़ने के बाद मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ कि कभी जवाहरलाल नेहरू और सुभाषचंद्र बोस घनिष्ठ मित्र तथा वैचारिक रूप से एक दूसरे के नजदीक थे। नेहरूजी जब भी कोलकाता आते थे प्राय:  सुभाषचंद्र बोस के घर पर पधारते थे और कई बार उनके घर पर ही रुकते थे। सन 1939 में सुभाषचंद्र बोस जब गाँधीजी की बात न मानते हुए उनके उम्मीदवार पट्टाभि सीतारामैय्या को हराने में सफल रहे और हरिपुरा अधिवेशन में कांग्रेस के अध्यक्ष चुन लिए गए तो गाँधीजी का बर्ताव सुभाषचंद्र बोस के प्रति सद्भावनापूर्ण नहीं रहा। सुभाषचंद्र बोस ने अंततोगत्वा अपना अलग रास्ता चुन लिया। नेहरूजी ने इस सबमें अपने मित्र का साथ छोड दिया और गाँधीजी के पीछे खडे रहे। पर इस सबके बावजूद आपसी कटुता इस हद तक नहीं बढ गई थी कि आपसी सामान्य शिष्टाचार भी खत्म हो जाता। नेताजी ने अपनी आजाद हिंद फौज की एक रेजीमेंट का नाम गाँधीजी के नाम पर गाँधी रेजीमेंट रखा था। 18 अगस्त, सन 1945 में नेताजी के एयर क्रैश में तथाकथित  देहावसान के बाद भी नेहरूजी सुभाषचंद्र बोस के  घर पर पधारे थे। नेताजी के सबसे बडे भाई शरत बोस की सुपुत्री चित्रा घोष के अनुसार उस अवसर पर नेहरूजी अपने साथ एक हाथघडी लाए थे जिसका पट्टा जला हुआ था। उन्होंने शरत बोस से कहा कि क्रैश के समय सुभाष ने यह घडी पहनी हुई थी। इस पर शरत बोस ने कहा कि मैं क्रैश की कहानी में विश्वास नहीं करता हूँ और सुभाष यह घडी नहीं पहनते थे बल्कि माँ की दी हुई गोल डायल की घडी पहना करते थे। इस पर नेहरूजी चुप रहे।

          जबसे यह समाचार आया है कि आजादी के पहले 1923 से शुरू हुई खुफिया एजेंसियों की चौकसी से लेकर बाद में सन 1968 तक आई.बी. द्वारा नेताजी के परिवार और कोलकाता में स्थित उनके वुडबर्न पार्क और एल्गिन रोड स्थित घर पर निगरानी रखी जाती रही है, तबसे इस बारे में तरह-तरह के विचार प्रकट किए जा रहे हैं। नेताजी के परिवार के सदस्य कह रहे हैं कि उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि ऐसा क्यों किया जा रहा था। चित्रा घोष और शरत बोस के पौत्र एवं सांसद सुगत बोस का कहना है कि एक कारण यह हो सकता है कि शरत बोस सन 1949 में और शिशिर बोस सन 1957 में आजाद हिंद फौज के सदस्यों और प्रमुख सदस्यों से संपर्क करने का प्रयास कर रहे थे। यह खबर आने के बाद उन्हें और आश्चर्य इस कारण हो रहा है कि इस सबके दौरान भी नेहरूजी से परिवार के आत्मीय संबंध थे।

          कोई भी भला आदमी अपने मित्र के साथ लाख राजनीतिक विरोध हो जाने के बाद भी विशेषकर तब जब उसके पूरे परिवार के साथ उसके आत्मीय संबंध हैं , उसका बुरा नहीं चाहेगा। अत: नेताजी के परिवार की निगरानी करवाने के पीछे एक कारण यह हो सकता है कि आजादी के बाद नेहरूजी के नेतृत्व में शायद तत्कालीन सरकार भी सुभाषचंद्र बोस के बारे में जानकारी को लेकर आश्वस्त नहीं थी और उसे यह उम्मीद रही हो कि सुभाषचंद्र बोस के परिवार के माध्यम से उसे कुछ जानकारी उनके बारे में मिल सकेगी। 

        मुझे लगता है कि यदि मोदीजी के नेतृत्व में हमारे देश की वर्तमान सरकार सरकार सुभाषचंद्र बोस को लेकर पूरी तरह ईमानदार है तो उनसे संबन्धित 41 हाइली क्लासीफाइड फाइलों (जिनमें से सिर्फ 2 डिक्लासिफाई की गई हैं) सहित सभी 202 फाइलें ( इनमें से 91 फाइलें डिक्लासिफाई की जा चुकी हैं)  बिना किसी मित्र देश की नाराजगी की परवाह किए डिक्लासीफाई की जानी चाहिए। इस देश की जनता को नेताजी से संबंधित सच्चाई जानने का हक है। सवाल यह है कि  सरकार ने  केवल दो फाइलें जिनके द्वारा नेहरू को कटघरे में खडा किया जा रहा है,  ही क्यों डिक्लासीफाई क्यों की हैं?  मेरा अपना विश्वास है कि किसी पर दोषारोपण तब किया जाना चाहिए जब पूरे तथ्य आपके संज्ञान में हों अन्यथा यह चरित्रहनन का एक प्रयास मात्र रह जाता है। केवल दो फाइलों को डिक्लासीफाई किए जाने से स्थिति ऐसी ही बन रही है।

           सुब्रह्मण्यम स्वामी का कहना है कि स्टालिन ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस को साइबेरिया में कैद में रखा था तथा उन्हें लेकर वह नेहरूजी को ब्लैकमेल करता रहा एवं अंततोगत्वा उसने उनकी हत्या करवा दी। यदि सुब्र्ह्मण्यम स्वामी की बात मान ली जाए तो यह स्वयं में एक तथ्य है कि 5 मार्च 1953 को स्टालिन की मृत्यु हो गई थी। अतः यदि उसने सुभाषचंद्र बोस की हत्या करवाई होगी तो उसकी तिथि 5 मार्च 1953 के पहले ही हो सकती है।

         सुभाषचंद्र बोस के अन्य जीवनीकार अनुज धर ने अपनी पुस्तक India's Biggest Cover up के लिए जो कागजात प्राप्त किए हैं उनमें उन्होंने नेहरूजी के द्वारा हस्ताक्षरित 20/11/1957 का तत्कालीन विदेश सचिव सुबिमल दत्त को लिखा गया पत्र उद्धृत किया है जिसमें वे नेताजी के भतीजे अमियनाथ बोस की टोक्यो यात्रा के दौरान उनकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए कहते हैं। खास बात यह है कि नेहरूजी इस बात की रिपोर्ट करने के लिए कहते हैं कि अमियनाथ बोस रेंकोजी टेम्पल जाते हैं  अथवा नहीं। मेरी समझ में इसका एकमात्र कारण यह हो सकता है कि नेहरूजी यह जानना चाहते थे कि नेताजी के परिवार के सदस्य क्या इस बात को मानते हैं कि रेंकोजी टेम्पल में रखे हुए अवशेष नेताजी के हैं।  यहाँ यह बात ध्यान देने योग्य है कि नेहरूजी को इस बात की रिपोर्ट की गई कि अमियनाथ बोस रेंकोजी टेम्पल नहीं गए थे।

           जैसाकि ऊपर कहा गया है , टी वी और समाचारपत्रों में आई रिपोर्ट के अनुसार सन 1968 तक आई बी नेताजी के परिवार की गतिविधियों पर निगाह रखे हुए थी । सवाल यह है कि यदि स्टालिन द्वारा सन 1953 या उसके पहले नेताजी की हत्या करवाई जा चुकी थी तो नेताजी के परिवार से क्या नेहरूजी या फिर कांग्रेस को किसी प्रकार का भय था? यदि नेताजी दिवंगत हो चुके थे तो मुझे इस प्रकार के भय का कोई कारण नहीं दिखाई देता। मेरा अपना विवेक कहता है कि नहीं ,सुब्रह्मण्यम स्वामी की बात गलत है। अगर निगरानी करवाई जा रही थी उसका एकमात्र कारण यह हो सकता है कि सरकार को इस प्रकार की आशंका थी कि नेताजी जीवित हैं और सरकार नेताजी के परिवार की निगरानी कर उस बारे में सूचना प्राप्त करने का प्रयास कर रही थी।

            फैजाबाद के तमाम लोगों का मानना है कि वहाँ रहने वाले गुमनामी बाबा ही सुभाषचंद्र बोस थे। अनुज धर ने अपनी पुस्तक में नेताजी के सोयियत रूस से गायब होने और 1960 से फैजाबाद में एक साधु के रूप में रहने की संभावना का जिक्र किया है। गुमनामी बाबा के सुभाषचंद्र बोस होने की संभावना को मुखर्जी आयोग ने भी पूरी तरह खारिज नहीं किया। पर अनुज धर इस बात से सहमत हैं कि इसके लिए स्पष्ट साक्ष्यों का अभाव है।

         यदि गुमनामी बाबा संबंधी तथ्य में कहीं सत्यता हो सकती है तो सुभाषचंद्र बोस का इस तरह छिप कर रहना बिना तत्कालीन सरकार की जानकारी और सहयोग के संभव न था। इस तथ्य को छिपा कर रखने के पीछे तत्कालीन सरकार और सुभाषचंद्र बोस दोनों की ही मजबूरी का कारण यह हो सकता है कि धुरी राष्ट्रों और नाजी ताकतों के साथ रहकर लड़ने के कारण अमेरिका,इंग्लैंड एवं कुछ अन्य पश्चिमी देशों के लिए सुभाषचंद्र बोस द्वितीय विश्वयुद्ध के वारक्रिमिनल थे और अंतर्राष्ट्रीय कानून के अंतर्गत भारत सरकार को उन्हें मुकदमा चलाने के लिए विदेशी ताकतों को सौंपना पड़ता। ऐसी कोई भी स्थिति तत्कालीन भारत सरकार के लिए विषम स्थिति पैदा कर देती। इसलिए उनका छिपकर रहना तत्कालीन सरकार के अनुकूल था, दूसरे वे इस प्रकार रहने पर द्वितीय विश्वयुद्ध का अपराधी बनने से बचे रहे। 

          पर ये सारी बातें जब तक प्रमाण के साथ न कही जा सकें तब तक दूर की कौडी ही हैं। दूसरे नेताजी के अधिकांश जीवनीकार इस बात पर सहमत हैं कि अधिकतर साक्ष्य नेताजी के एयरक्रैश में मारे जाने की तरफ इशारा करते हैं। हालांकि इनमें से कई उस क्रैश से उनके बच निकलने की संभावना को भी नहीं नकारते। पर उनका कहना है कि उसके बाद जो भी संभावनाएं बनती हैं उनके लिए पर्याप्त साक्ष्यों का अभाव है। यदि सरकार सुभाषचंद्र बोस से संबन्धित सारी फाइलें डिक्लासीफाई कर दे तभी इस बारे में स्थिति साफ होने की आशा की जा सकती है।

Friday, 10 April 2015

फिल्मों का प्राइमटाइम शो और भाषाविशेष (आलेख)

          मुंबई भारत का शायद पहला और आज भी सबसे ज्यादा कास्मोपोलिटन शहर है। भले ही यहाँ मुंबइया हिंदी बोली जाती हो जिसे हिंदी वाले हिंदी का विकृत रूप मानते हों पर आपसी संवाद के लिए लंबे समय से मराठी से ज्यादा यही मुंबईवासियों के द्वारा प्रयोग में लाई जा रही है। जब आप इस मुंबइया हिंदी को सुनने के अभ्यस्त हो जाते हैं तो आपको इस भाषा में विकृति नहीं दिखाई देती बल्कि उसमें निहित प्रेम दृष्टिगोचर होने लगता है। सन 1991 के चुनावों के दौरान शरद पवार जब उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के लिए वोट मांगने गए तो अपने भाषणों के दौरान उन्होंने कहा कि मैं देश के सबसे बडे हिन्दीभाषी नगर मुंबई से आपके बीच आया हूँ। पर हाल ही में  इस नगर सहित पूरे महाराष्ट्र में सिनेमाहालों के लिए अपने रोज के शो का प्राइम टाइम मराठी फिल्मों के लिए रिजर्व रखना अनिवार्य कर दिया गया है जबकि मुंबई में ही देश की सबसे ज्यादा हिन्दी फिल्में बनती हैं और देखी भी जाती हैं। सिनेमाहालों के सामने पहले से ही अस्तित्व का संकट चल रहा है क्योंकि अब लोगों के पास अपने घर में ही मनचाही फिल्म देखने के साथ - साथ साथ  मनोरंजन के अन्य तमाम विकल्प मौजूद हैं। इसलिए वे फिल्में देखने तभी जाते हैं जब उन्हें लगता है कि उन्हें यह फिल्म देखनी ही चाहिए और वह भी सिनेमाहाल में। ऐसी स्थिति में यदि सिनेमा मालिकों को मजबूरी में कोई मराठी फिल्म उसके लिए दर्शक उपलब्ध न होने पर भी दिखानी पडेगी तो यह व्यावसायिक दृष्टि से कितना मुफीद और सफल होगा यह समझने वाली बात है।

          तथ्य यह है कि मुंबई के सिनेमाहालों में सिर्फ हिन्दी और मराठी ही नहीं बल्कि तमिल,तेलुगु, मलयालम और भोजपुरी सहित अन्य तमाम भारतीय भाषाओं की फिल्में भी दिखाई जाती हैं बशर्ते कि उनके लिए दर्शक उपलब्ध होने की संभावना हो। सन 19 92-93 में अंबरनाथ ( वृहत्तर मुंबई का एक उपनगर) में अपनी तैनाती के दौरान मैं रविवार के दिन सायं एक सिनेमाहाल में ,जहाँ प्राय: पुरानी क्लासिकल फिल्में लगा करती थीं, फिल्म देखने चला जाया करता था। एक दिन रविवार की शाम को मैं यह सुनकर कि वहाँ "नदिया के पार" फिल्म लगी हुई है जब फिल्म देखने के इरादे से गया और टिकट खिडकी पर जाकर बुकिंग क्लर्क से टिकट देने के लिए कहा तो उसने मुझसे कहा -मद्रासी है। मैंने समझा कि वह मुंबइया हिंदी में मुझसे पूछ रहा है कि क्या मैं मद्रासी हूँ। मैंने कहा- नहीं, पर टिकट दो ।वह दोबारा बोला- मद्रासी है। मैंने कहा- मैं कौन हूँ ,इससे तुम्हें क्या,तुम मुझे टिकट दो। इस पर वह बोला -मद्रासी पिक्चर  देखना है क्या, पिक्चर मद्रासी है। इस पर मैंने उसे धन्यवाद देते हुए कहा कि नहीं,फिर मुझे फिल्म नहीं देखनी है क्योंकि मैं तमिल नहीं समझता हूँ। इसी प्रकार वहाँ प्रत्येक रविवार प्रातः भोजपुरी फिल्म का शो लगा करता था ।  मुझे पता लगा कि मेरे विभाग के एक तेलुगूभाषी श्री राव नियमित रूप से भोजपुरी फिल्म देखने जाते हैं । मैंने एक दिन उनसे कहा - राव बाबू ,सुना है आप भोजपुरी पिक्चर देखने जाते हो जबकि हिन्दी भी ठीक से नहीं बोल पाते हो। इस पर राव बाबू ने मुझे बताया कि उन्हें भोजपुरी फिल्मों का संगीत -नृत्य विशेषकर पसंद है इसी कारण वे भोजपुरी फिल्में देखते हैं। एक दिन मैंने राव बाबू से कहा - राव बाबू एक अच्छी फिल्म दामिनी लगी हुई है। राव बाबू और मेरे एक अधीनस्थ श्री शिंदे ने कहा कि वे लोग भी मेरे साथ फिल्म देखने चलेंगे। थोडी ही देर में खबर फैल गई और बगल के अनुभाग से श्री पिल्लै और श्री सिंह आकर बोले कि वे भी फिल्म देखने चलेंगे। राव बाबू और श्री  शिंदे बोले कि वे लोग छुट्टी होने के बाद सीधे सिनेमाहाल जाएंगे क्योंकि घर जाने के बाद उनकी पत्नियाँ उन्हें आने नहीं देंगी। हम सब लोगों ने राव से कहा कि फिर वे हम सबका भी टिकट ले लेंगे।अब राव ने दूसरी समस्या बताई और कहा कि वे ज्यादा इंतजार नहीं कर सकते इसलिए पंद्रह मिनट इंतजार कर सिनेमाहाल के भीतर चले जाएंगे। खैैर मैं,पिल्लै और सिंह घर जाकर और नहा-धो कर बारी-बारी से सिनेमाहाल पहुँचे। तब तक राव बाबू हाल के अंदर जा चुके थे। हम तीनों ही गेटकीपर को राव बाबू का हुलिया आदि बताकर किसी तरह उसे राजी कर हाल के अंदर गए। सबसे आखिर में जब पिल्लै आए तो उनसे गेटकीपर बोला- ये क्या है आज जो भी आदमी आ रहा है यही बोल रहा है कि लंबा-टकला आदमी पाँच टिकट कटाकर अंदर गया है। खैर , अब प्राइम टाइम शो मराठी फिल्मों के लिए रिजर्व हो जाने के बाद इस तरह विभिन्न भाषाओं को बोलने वालों का एक साथ मिलकर कार्यक्रम बनाना और इस तरह के मनोरंजक अनुभव शायद अतीत की बात हो जाएगी।

          महाराष्ट्र सरकार को मराठी भाषा,साहित्य और संस्कृति को निश्चय ही बढावा देना चाहिए पर जहाँ लोगों के व्यावसायिक हित संलग्न हैं वहाँ उनका ख्याल करके इस दिशा में कदम उठाना चाहिए। ऐसा कोई भी प्रयास जो व्यावसायिक हितों की उपेक्षा कर जबरन थोपा जाएगा वह अंततोगत्वा असफल सिद्ध होगा क्योंकि कोई भी व्यवसायी बिना लाभ के अथवा घाटा उठाकर व्यवसाय नहीं करेगा।भाजपा की प्रांतीय सरकारों को  भावनात्मक मुद्दों को प्रशासन का केन्द्रबिन्दु बनाने के बजाए विकास का ही मंत्र पकडकर चलना चलना चाहिए । जनता की मूलभूत समस्याओं की उपेक्षाकर और भावनात्मक मुद्दों की राजनीति कर कोई भी प्रशासनिक व्यवस्था सफल नहीं हो सकती और उसके अपने रास्ते से भटक जाने की पूरी संभावना है।

Thursday, 9 April 2015

कहने को तो सारे नकाब एक से,पर चेहरा अलग होता है (गजल)


                                 गजल

कहने को तो सारे नकाब एक  से,पर चेहरा अलग होता है
हर नकाब में वो ढूँढता है उसे, पर वो वहाँ कहाँ होता है

आँखों में समा दिल में जज्ब हो जाए वही अपना होता है
दिल में आग लगा दे जो शरर, उल्फत का सबब होता है

जो सवालात में है उसके, वही   खयालात में होता है
हकीकत में नहीं तो न सही,वो तसव्वुरात में  होता है

मुहब्बत में बेदीनी नहीं होती, उठ भी जाए  ये हिजाब
काफिर की आस हुई बेआस ,अब जब्त कहाँ होता है

नायाब किसी और का हुस्न, बेनकाब हो भी जाए तो क्या
'संजय' जो अपना रहे नकाब में ,तो  भी अपना होता है
                                      -संजय त्रिपाठी

 भाई पुष्यमित्र उपाध्याय की कविता
 "अलग नकाब में..... अलग चेहरे वाले ,
 अब हैरान नहीं करते .....उदास कर देते हैं"
से प्रेरित होकर लिखी गई
                                         




Monday, 6 April 2015

वो मिला यूँ मुझसे मेरे चले जाने के बाद (गजल)

दुष्यंत कुमार की पंक्तियों- 'वो सलीब के करीब आए तो हमको,कायदे कानून समझाने लगे हैं ' से प्रेरित होकर-

                        -गजल-
वो मिला यूँ मुझसे मेरे चले जाने के बाद
नौहाख्वानी की मेरे चले जाने के बाद

किसी की जाँआजारी क्या याद करते
उस जालिम से एक बार मिल लेने के बाद

गूँगे-बहरों के शहर में कोई क्यूँ बोले
किसी गरीब की सदा सुनने के बाद

मेरी आँखों की बीनाई ही चली गई
कुछ सूरदासों से ठग लिए जाने के बाद

हाकिम भी देता सच्चा फैसला कैसे
मुकदमे में गवाहों के मुकर जाने के बाद

सियासतदानों ने लूट लिया मुल्क को
 ईमानवालों के खामोश हो जाने के बाद

आखिर उसने सलीब पे मुझे चढ़ा दिया
'संजय' कायदा- कानून समझाने के बाद
                                 - संजय त्रिपाठी


Thursday, 2 April 2015

इनसान काले गोरे में बँट गया ! ( आलेख)

                                     इनसान काले गोरे के खेमों में बँट गया
                                     तहजीब के बदन पे सियासी लिबास है
                                                               -अदम 'गोंडवी'                                        

           गिरिराज सिंह का बहुचर्चित हो गया तथाकथित आफ रेकार्ड  बयान कि सोनिया गाँधी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने उनका गौरवर्ण देखकर नेता बनाया है तथा यदि राजीव गाँधी ने किसी नाइजीरियन महिला से शादी की होती तो उसे कांग्रेस नेता नहीं बनाती, निहायत ही बचकाना और बेहूदा है। साथ ही इस तरह की बात उनके मंत्रित्व को भी कटघरे में खडा करती है। सवाल यह है कि जिसके सोचने -समझने का यह स्तर हो क्या उसे केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान दिया जाना चाहिए। सोनिया गाँधी ने समझदारी का परिचय देते हुए कहा है कि वे इस तरह के बयान पर किसी प्रकार की टिप्पणी की जरूरत नहीं समझतीं। परंतु उनके दल को जो इस तरह के मौकों की तलाश में रहता है बैठे-बिठाए एक मुद्दा मिल गया है और उनके अनुयाई हल्ला-गुल्ला मचाने में लग गए हैं। नाइजीरिया के राजदूत ने भी इस तरह के बयान पर अपनी आपत्ति दर्ज की है। मेरे जैसे आदमी को भारत का एक नागरिक होने के कारण इस बात पर शर्म आती है कि ऐसे व्यक्ति देश के मंत्रिमंडल के सदस्य हैं। इसके पहले गतवर्ष लोकसभा के आमचुनाव के दौरान गिरिराज सिंह नरेंद्र मोदी का विरोध करने वालों को पाकिस्तान जाने की सलाह तक दे चुके हैं। मेरे विचार से प्रधानमंत्री जब एक ओर मनोहर पर्रिकर और सुरेश प्रभु जैसे लोगों को उनकी काबलियत के आधार पर मंत्रिमंडल में स्थान देते हैं तो उन्हें हल्के विचार रखने वालों को अपने मंत्रिमंडल से बाहर भी करना चाहिए।

          पर गिरिराज सिंह के बयान का एक पहलू और भी है। क्या हममें से तमाम सारे भारतीयों का चिंतन कहीं कुछ-कुछ गिरिराज सिंह की तरह ही नहीं है। मैं स्वयं श्यामवर्ण का हूँ । शायद इसका कारण यह है कि मेरे पिता भी श्याम वर्ण के थे यद्यपि मेरी माता गौरवर्ण की हैं। मेरी बहनें भी गौरवर्ण की हैं। मैं बचपन से ही अपने श्याम वर्ण को लेकर रिश्तेदारों, पारिवारिक मित्रों और परिचितों की टिप्पणियाँ सुनता आ रहा हूँ। इस कारण बचपन से ही अपने वर्ण को लेकर मन में कहीं एक ग्रंथि पनप गई। यह ग्रंथि शायद सभी भारतीयों के मन में है और इस कारण शादी - विवाह के प्रस्तावों के समय लडकी के गौरवर्ण का होने की मांग करना सामान्य बात है। यदि आप किसी भी समाचारपत्र में निकलने वाले वैवाहिक विज्ञापनों को देखें तो यह बात स्पष्ट हो जाती है कि विवाह के लिए अधिकांश लोग गोरी लडकी ही चाहते हैं। गौरवर्ण भारतवासियों द्वारा सौंदर्य का एक प्रतिमान समझा जाता है जबकि अधिक श्याम वर्ण को असुंदरता के साथ जोडा जाता है। अब कहने के लिए आप कहते रहिए कि भगवान राम और कृष्ण साँवले थे और सुंदरता चेहरे की गढन से होती है या फिर आंतरिक होती है। अगर ऐसा होता तो जिनकी बेटियाँ साँवली होती हैं, वे अकसर बातचीत में अपनी बेटी के अच्छे नैन-नक्श या स्वभाव के बावजूद उसकी शादी के लिए बहुत अधिक चिंतित नजर नहीं आते और न ही फेयरनेस क्रीमों का व्यापार भारतवर्ष में करोडों के उद्योग के रूप में परिवर्तित हो जाता। गौरवर्ण के  प्रति हम भारतीयों के आकर्षण का ही परिणाम है कि हमारे कविगण " गोरे रंग पे न इतना गुमान कर......" और " चांदी जैसा रूप है तेरा....." जैसे गीत रचते नजर आते हैं । मैं व्यवहार में देखता हूँ कि जो लोग स्वयं श्याम वर्ण के हैं वे भी गौरवर्ण की ही अर्द्धांगिनी चाहते हैं।

           श्रीमती इंदिरा गाँधी ने सन 1975 के आपातकाल के बाद सन 1977 में जब आम चुनाव करवाए तो उनके कांग्रेस के कुछ साथियों ने अलग होकर "कांग्रेस फार डेमोक्रेसी" बना ली थी। इनमें से से एक प्रमुख नेता एक दिन भाषण देने आए। मेरे कुछ साथी यह भाषण सुनने के लिए गए। मैं उन दिनों पढता ही था। मैंने लौटकर आने पर अपने एक साथी से जब भाषण के बारे में पूछा तो वह छूटते ही उन नेता का नाम लेकर बोला कि वो तो तवा की तरह काले हैं। उन्हीं दिनों मैं अपने एक मित्र के यहाँ शादी में उसके गाँव गया। उन दिनों शादी में नर्तकी बुलाने की प्रथा थी । वहाँ भी एक नर्तकी आई हुई थी। नर्तकी अति श्यामवर्ण की थी , इस बात को लेकर मैंने लोगों की टीका-टिप्पणियाँ सुनीं और कुछ लोगों ने तो इस बात की बाकायदा शिकायत की। कुछ वर्ष पूर्व मेरे यहाँ एक नए विभागाध्य्क्ष ने कार्यभारग्रहण किया। मेरी एक सहकर्मी को उनके दर्शन हो गए। लौटकर आई तो बांगला में बोली "......तो कालो" अर्थात "........काले हैं"। इसी प्रकार एक अधिकारी के विषय में एक दिन बोली ".......तो खूब बेशी फारसा "  यानी कि "........बहुत ज्यादा  गोरे हैं"। 

           काले -गोरे की यह ग्रंथि मैं प्राय: सभी भारतीयों में पाता हूँ। इसके बीज वैदिक काल से ही मिलते हैं। तब एक खास समुदाय के लोगों को - अनास: ,मृगयु के साथ धृतवर्ण: अर्थात काले रंग का बताया गया जबकि आर्यों को गौरवर्ण का बताया गया। परंतु उसी समय से इन दिनों समुदायों का पारस्परिक मिश्रण भी होता चला आया है। इसी कारण प्राय: अधिकांश भारतीय परिवारों में ( यदि अपवाद के तौर पर कुछ भौगोलिक क्षेत्रों को छोड दिया जाए तो) गौर और श्याम दोनों ही वर्ण के लोग मिल जाएंगे। पर खेद की बात है कि इसके बावजूद हम दुनिया के उन लोगों की श्रेणी में आते हैं जो सर्वाधिक रंगभेदी हैं। मुझे ऐसे भी श्यामवर्ण के लोग मिले जो दुनिया के अन्य देशों में भी होकर आए हैं और उन्होंने मुझसे कहा कि गोरे-काले की जितनी बात भारतवर्ष में होती है उतनी दुनिया के अन्य किसी देश में नहीं है।

           कुल मिलाकर गिरिराज सिंह का बयान या कुछ दिनों पहले संसद में महिलाओं के रंग के संदर्भ में शरद यादव के बयान हम भारतवासियों की रंगभेदी मनोवृत्ति के परिचायक हैं और यह एक बडी बीमारी के लक्षण हैं। हममें से अधिकांश को अपनी इस बीमारी का पता ही नहीं है क्योंकि अब तक हम इस रोग के लक्षणों की उपेक्षा करते आए हैं। पर हमें अपनी इस बीमारी को पहचानकर इससे छुटकारा पा लेना चाहिए और हो सके तो इसके लिए अभियान भी चलाना चाहिए। जब हमारे मन में काले- गोरे की ग्रंथि नहीं रहेगी तो हमें इस प्रकार के बयान या बातें  सुनने को नहीं मिलेंगीं।