hamarivani.com

www.hamarivani.com

Monday, 26 January 2015

क्या भारत का यह सोशलिस्ट रिपब्लिक इतना कर सकेगा?

क्या भारत का यह सोशलिस्ट रिपब्लिक इतना कर सकेगा?

         अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामाजी गाँधीजी की समाधि पर दोबारा हो आए। हर विदेशी मेहमान राजघाट जरूर ले जाया जाता है । दूसरी तरफ देश की राजधानी में क्रांतिकारी शहीदों के लिए एक भी स्मरण स्थल नहीं है। शायद बिस्मिल के शेर- 'शहीदों की मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा' की मर्यादा रखने का भी किसी के मन में विचार नहीं आया है। भारतीय क्रांतिकारियों का इतिहास,उनकी वीरगाथा, उनका त्याग एवं संघर्ष, घर-परिवार के साथ सर्वस्व न्यौछावर कर देने की भावना और जिस तरह एक समय में पूरे भारत के क्रांतिकारियों को एकजुट करने की कोशिश की गई तथा हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी की नींव रखी गई ; वह सब अभिभूत कर देता है। अनेक बार यह सब पढ़ते हुए जहाँ गौरव की अनुभूति होती है, वहीं कई बार आँखें गीली हो जाती हैं । क्या दिल्ली में कोई कभी इनके लिए भी एक सुन्दर स्मारक बनाने की बात करेगा जहाँ देशवासियों के साथ-साथ विदेशी मेहमान भी जाएं और उन्हें मालूम हो कि हमारे पास ऐसी भी विभूतियाँ थीं । क्या दिल्ली के चुनावों के दौरान कोई पार्टी वोट-प्राप्ति से ऊपर उठकर यह वादा भी कर पाएगी? क्या अपना सब कुछ लुटा देने वाले आजादी के परवानों के लिए भारत का यह सोशलिस्ट रिपब्लिक 66वें गणतंत्र दिवस पर इतना भर करने की दिशा में कुछ कर पाएगा?

Thursday, 22 January 2015

सोचता है तू मैं रेजा-रेजा होकर बिखर जाऊँगा (गजल)

                          गजल

सोचता है तू मैं रेजा-रेजा होकर बिखर जाऊँगा

कलम कर दे मुझे, मैं और भी निखर  जाऊँगा।।

मुझे मिटाने की  तदबीरों में भी फूल खिला लाऊँगा
बन के उनकी महक आबोहवा में छितर जाऊँगा ।।

नाहक  फिर रहा है तू मेरे डूबने की ख्वाहिशें लिए
कँवल बनकर गर्काब में भी नुमू हो निथर जाऊँगा।।

तारीकियों में रोशनी बन छा जाने का हुनर है मुझमें
क्यों परेशां है तू ये सोचकर कि मैं किधर जाऊँगा।।

तेरी ये बनिगाहे इताब, ये मज्लिम तुझे मुबारक
ये दिल और मताए आखिरत लेकर उधर जाऊँगा।।
-संजय त्रिपाठी

Monday, 19 January 2015

Fantastic story of Tukku - The Lesser Whistling Teal !

       

          Tukku I find your story fantastic.  You travelled thousands of miles without any passport or visa hassle, all the way from Norway to India in search of a warm winter. Almost when you reached the destination near Kolkata you lost the way. Estranged from your family and friends due to tiredness, illness or something else you landed alone at Ishapore .

          Tukku! Life is beautiful and who knows it better than you and your kind. But life is also ferocious and you saw the ugly face of life as well  after separation from your flock as you touched the ground. There were people in the surroundings who just had the idea of making a good meal out of you, ready to cook and devour you . Then there was that dog with an intention of prowling upon you.

          This is true not only about you Tukku, this is a fact of the life for us -human beings also. My mother told me that like you I was also lost when as a child I had just started walking. One day, I came out of my house as no one was in the vicinity. I crossed the gully, reached the main Road and further walked towards Laxmi Talkies Chauraha in Old Katra Muhalla of Allahabad. Once I reached the square, probably unable to decide which way to go, I stood standstill and started weeping. Some people came forward and started claiming me. Ultimately a lady came as my saviour. She told the crowd that the boy belonged to none . She said she would find out real parents and handover me to them. In case parents were not found out I would be handed over to Police. Firmness of the lady compelled people to move out. Meanwhile my parents and neighbours started searching for me. When all efforts failed , my mother came out on the Road to search for me. Looking for me here and there, she ultimately reached vegetable market and saw a lady holding me in her lap. The lady could recognize that my mother was the real mom and handed me over to her. Thus I was saved of an actual MANMOHAN DESAI LIKE film situation in my real life. But you couldn't be saved of such a situation, Tukku! Your parents had moved away along with the flock. How this all happened can only be a matter of conjecture.

          Life smiled upon you Tukku as you were surrounded by avaricious eyes. A saviour came for you,in form of Surojeet , orderly of my section. He picked you up with an intention to save your life and brought you to our section.The day was Saturday.  Being sunday next day was a holiday. Tukku ( this name was given to to you, the Lesser whistling Eurasian Teal by Shyamal  ). You didn't take anything since morning when brought into my office by Surojeet . You were sitting silently. If disturbed , you moved but didn't make efforts to fly. I could see that you were a migratory bird separated from your flock due to unseen reason and not a local bird- Bali Hans as assumed by Surojeet. Probably you were ailing and tired. We called the Bird Rescue Department but they expressed their inability to come and requested us to wait till Monday. I asked my colleagues to contact some other agency which may be helpful as you needed immediate nursing, otherwise your survival till Monday was dobubtful. Ultimately we were able to contact an N G O Mother care's Ms Sreetama Bhattacharjee who promised to come by the evening.  She gave instructions to put you inside a cartoon with holes to make you comfortable, not touch or feed you anything as you may get infected . Ultimately Mothercare Team came at 4.30 pm in the evening and Tukku, you were handed over to them! They told us that Tukku was too young and after nursing , you would be rehabilitated at the Santragachhi lake.We had to bid ADIEU to you Tukku in your better interest and we were happy to leave you in safe hands.

          Tukku if you are extremely lucky like me, you may find your original flock and parents again at Santragachhi Lake. In case your parents have moved to Rabindra Sarobar or Nalban you may not find them there. But you will certainly find some new friends there. It is sure that you will be welcomed into a flock of your kind. And after a few months when the flock is ready to go back to Norway you would have grown up into a beautiful adult. May be before going back, you would have found your life companion or spouse. After all , you will be residing in romantic surroundings. When you reach Norway at home, your love life will further bloom. Next year you will decide to visit India again for a warm winter , may be along with your own child. I'm sure Tukku would be taking precautions so that the child is not separated from the flock to fall prey to a prowler or be at the mercy of strangers.

         The world is so kind but at times it may be so unkind. There are good and bad people here. It is when you are in unkind situation; you need a bit of luck, sometimes a samaritan  by your side as well as grit, determination and stemina to come out of such a situation. I believe Tukku has all these elements in  favour.

( I thank all my colleagues as well as the N G O: " Mother care" for making efforts to save Tukku -the Lesser whistling Eurasian Teal )



Friday, 16 January 2015

शार्ली एब्दो और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता ! ( विमर्श )

          शार्ली आबदो का नया अंक प्रकाशित किया गया.है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए एक साहसिक और ऐतिहासिक कदम। यदि हमारी भावनाएँ आहत भी होती हैं तो भी हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्ष में रहना चाहिए - रघुवंशमणि (मेरे मित्र )

मेरी प्रतिक्रिया-
           रघुवंशजी मैंने इसके पहले भी शार्ली आबदो मामले पर आपकी टिप्पणी पढ़ी थी। सोचा था थोड़ा फुर्सत में बैठकर उस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करूँगा पर मुझे समय नहीं मिला और बात आई-गई हो गई। आज आपकी यह टिप्पणी पढ़कर आपकी वह टिप्पणी भी याद आ गईं। नि:संदेह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता महत्वपूर्ण है तथा विरोध के आतंकवादी तरीके का किसी प्रकार से समर्थन नहीं किया जा सकता। पर यहीं यह भी प्रश्न उठता है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता क्या उस सीमा तक हो सकती है कि धर्मविशेष के मूलभूत धार्मिक सिद्धांतों पर कुठाराघात किया जाए तथा उसके अनुयाई आहत अनुभव करें। इस्लाम मूर्तिपूजा की मनाही करता है तथा अपनी धार्मिक विभूतियों की मूर्ति ,प्रतिमा तथा चित्र को प्रतिबंधित करता हैं। ऐसी स्थिति में उनके कार्टून बनाकर मुस्लिम भावनाओं को आहत करना कहाँ तक जायज है? हिंसा और आतंक का विरोध करना एक बात है पर भावावेश में आकर पूरी दुनिया में यह कहा जाना कि हम भी वही कार्टून छापेंगे ,मुस्लिम धार्मिक भावनाओं के प्रति असंवेदनशीलता को दर्शाता हैं। पश्चिमी देश इस प्रकार की असंवेदनशीलता का परिचय देकर भी अप्रभावित रह सकते हैं क्योंकि उनके यहाँ मुस्लिम आबादी का प्रतिशत अल्प है। पर हम नहीं जहाँ आबादी का 1/5 भाग मुस्लिम आबादी है। लोगों की धार्मिक भावनाएँ भड़कने से सामाजिक सौहार्द्र प्रभावित होगा। अगर किसी को कार्टून के द्वारा ही अपनी बात कहना है तो वह आतंकवादी संगठनों, उनके आकाओं, धार्मिक कठमुल्लों, धर्म के नाम पर जनता को भड़काने वाले सत्ताधारियों और राजनीतिज्ञों का कार्टून बना सकता है । इस सबमें मुहम्मद साहब,राम,कृष्ण या नानक को लाने की क्या जरूरत है? जहाँ मैं पेरिस में घटी आतंकी घटनाओं की निंदा करता हूँ वहीं शार्ली आब्दो द्वारा मुहम्मद साहब का कार्टून छापने की भी निंदा करता हूँ।

रघुवंशमणिजी की प्रतिक्रिया-
          The freedom of expression is more important than any religious feeling or sentiment as it brings restrictions to thinking and artistic creation. the aim of any type of cartoon is to underline the incongruous. Nothing is more incongruous than religious sentiments. They should be criticized and ridiculed.

विद्याधर मिश्र ( रघुवंशमणिजी के मित्र ) - 
          Man is born free and freedom in all its forms is a fundamental human right. However, as Prof Laski rightly said,' your freedom ends where my rights begin',Voltaire a great thinker during the French Revolution said - ' I may not agree with what you say, but I am prepared to give my life for you to have the freedonm to say it'
रामप्रकाश त्रिपाठी ( रघुवंशमणिजी के मित्र ) -
          मतलब यह है कि कोई अपशब्द कहता रहे और चूँकि वो उसकी अभिव्यक्ति है इसलिए उसे ऐसा करने देना चाहिए। शार्ली एब्दो ने हिंदू देवी-देर्वताओं का जब मखौल बनाया तो कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। वो आग से खेल रहा था। अब आग लग गई। मेरा मानना है कि आतंकी घटना की निंदा हो, लेकिन शार्ली एब्दो  की भी हद तय हो।

रघुवंशमणि -
         भाई, there is a fundamental difference between apshabd and Freedom of artistic expression. There is no rule against Apshapd.

मेरी प्रतिक्रिया-
          Hinduism is an undefined religion. So always it is open to internal discussions, criticism and reformation. Christianity has also evolved with time . But Islam has Muhammad as its prophet, monotheism  and opposition to idol worship in any form including pictures as basic principles as well as kalma, namaj, roja, haj, jakat as basic tenets. Similarly Sikhism has Ten Gurus, Five Kakars- kada, kesh, kangha, kachh, kripan as basic tenets and Guru Granth Sahib as religious scripture . These religions which have defined basic tenets, don't allow questions or discussions about these. Let them evolve with time. If you raise a question about their basic tenets or do something like caricaturing their prophet, you are bound to attract wrath of the believers. Although violence can't be justified and any sort of protest should be expressed in non-violent form, yet the fact is that a Gandhi is not sitting there in every nook and corner of the world and you can't restrain each and every person of this world. Discretion is always better part of valor. Why you don't care while hurting sentiments of Crores of people and aggravating their sense of grievance, putting the world to fire for your freedom of expression. You allow the defined religions to evolve. Pressure of modernity would do it. Let it come from within, from inside. Each and every thing related to religion is also not incongruous. You find out a way of criticizing and ridiculing the incongruous in such a way that people don't feel offended. As quoted today in T O I, Pope Francis said yesterday that there are limits to freedom of expression, especially when it insults or ridicules someone's faith. Peace in this world is more important. So playing with fire should be avoided. I again denounce violence and terrorist activity against Charlie Abdo and at the same time I denounce caricature of Muhammad Sahab by Charlie Abdo too. 
          I'm quoting a few quotations by Voltaire which I found relevant   : ( 1) - OPINION HAS CAUSED MORE TROUBLE ON THIS LITTLE EARTH THAN PLAGUES OR EARTHQUAKES. (2)-  FAITH CONSISTS IN BELIEVING WHEN IT IS BEYOND THE POWER OF REASON TO BELIEVE and at last (3)-  IT IS DIFFICULT TO FREE FOOLS FROM THE CHAINS THEY REVERE. 

रघुवंशमणिजी-
          It is strange that the people opposing THE CARTOON with great fervour never opposed terrorism with same enthusiasm. Do they think religion and faith to be more important than human lives.

मेरी प्रतिक्रिया-           Seed of terrorism lies in intolerance. Therefore we have to be tolerant towards others.We may believe in God or not; we may be atheist, agnostic, monotheist or heinotheist but striking below the belt should be avoided. Healthy criticism is different from rancorous. I don't worship but I don't object if my mother,wife or anybody else worships. I never say anything which may offend the worshipper. I don't pay attention to the way of worshipping and I don't find my friend Ayub's family and their ways different from that of mine. One of my relatives has married an American Jew and they follow their respective religions with tolerance towards one another within four walls of their house and there is no problem. If somebody queries, I politely tell him about my convictions about religion. My father was surprised when I told him I prefer Upanishadik philosophy to heinotheism. But I'm not surprised if my son quotes Stephen Hawking on religious beliefs.I respect and become happy that he is developing independent thoughts. If atheism is pursued with almost religious fervour just like followers of other religions, with no scope for tolerance,it may become another form of religion and after fifty or hundred years atheists may be seen roaming with swords and attacking religious institutions.It is best if religion is left to personal domain. But until that time comes, it is better to be tolerant towards others.Even Gandhiji stopped non-cooperation movement after Chaurichaura incidence. Terms like 'should be expressed' should be preferred over terms like ' should be attacked'. Tolerance is the essence for the humanity to prevail. Even your words or drawing may hurt someone not physically but mentally and if you still persist with, that is akin to tyranny. Therefore I say don't strike below the belt and let harmony prevail.

Thursday, 15 January 2015

Eyes are the way to Heart! (Short Story)

          It was at the age of eight and half years that for the first time in my life I was attracted towards a girl of my school.She was junior to me. During Annual Function of the School she presented a devotional song of Mira (A famous Hindu Saint Poetess who fancied Lord Krishna as her lover. She used to write, sing and dance for Lord Krishna) along with a dance. I was mesmerized by her dance and sweet singing voice. Still her little figure while dancing and singing is alive in my mind. Time to time I used to talk with the girl but never expressed my love for her as at that young age , in those days it was a matter to be laughed at and I understood it. During the Annual examination she was seated by my side as in my school to deter the children from copying, students from different classes were seated together. I used to reach the school early and talk with her a lot. We also played games if we got time.Anyway after annual exam., I lost contact with her as I left the school. Yet I met her on a few occasions in the next two years when I visited my old school. Thereafter, I lost contact with her totally.
         It was nearly fourteen years of that incidence that I saw a girl in the city on several occcasions. My eyes would get stuck up with her.The girl was chubby and her face looked familiar to me. It occurred to me that she was a girl from my old childhood school and as I remembered another chubby girl also from that school, I thought it was the same chubby girl.I never talked with her. We just crossed our paths several times. The girl never looked towards me. One more year went by. It was one day that I was passing through the main market area of my city and the chubby girl was coming from the other side and We were on the verge of crossing our path and suddenly she looked towards me , our eyes met. Her eyes were stuck up with me and mine with hers. We could immediately recognize one another. She was my childhood thin sweetheart who had grown up into a chubby girl. When I came back to my home I wrote a poem for her in Hindi.

Tuesday, 13 January 2015

मुझे देखकर आज वो मुस्कुराया बड़े अरसे के बाद (गजल)

                           गजल

मुझे देखकर आज वह मुस्कुराया बड़े अरसे के बाद
मेरा कातिल ही खबर दे गया मुझे कत्ल करने के बाद।।

उसके हुस्नोजमाल को खूबसूरत समझ निसार था मैं
पर होशमंद हो गया हूँ मैं, मेरा कत्ल हो जाने के बाद।।

वो हैयाल भी हैरान रह गया है मेरी जिंदादारी देख
खड़ा हो जाता हूँ फिर-फिर से कत्ल हो जाने के बाद।।

मुझको दुश्मन समझने वाले हिफ्जेमातकद्दम कर लो
होश आएगा तुम्हें भी पर सफीना डूब जाने के बाद।।

अपनी शमशीरें अपने खंजर फिर से संभाल रहे हैं वो
"संजय" चक्रव्यूह से निकलूँगा पर अभिमन्यु बनने के बाद।।
-संजय त्रिपाठी

Tuesday, 6 January 2015

हम आखिर हूँ कौन - एलियन ! (व्यंग्य/ Satire)

          "आखिर हम हूँ कौन  ?" भागवतजी बोले हैं कि जौन भी हिंदुस्तान में पैदा हुआ है ऊ सब हिंदू है अऊर ओवैसीजी बोले हैं कि हर केऊ मुस्लिम पैदा होता है। एक जगह हम पढा हूँ कि वेद में लिखा है कि हर केऊ शूद्र पैदा होता है अऊर संस्कार से आदमी अलग-अलग वरण वाला होय जाता है। ई सब पढ ,देख अऊर सुन के हम बडा चक्कर में आ गया हूँ कि हम आखिर कौन हूँ।  कौनौ क्रिश्चियन अब तक क्लेम नहीं किया है कि हर पैदा होय वाला क्रिश्चियन होता है। अब हमै पता लगा कि हमार दोस्त टामीचन टी जे काहे हमसे कहत रहा कि क्रिश्चियन बन जाव और परभू ईशू के शरण मां आय जाव। जब कौनौ पैदाइशी क्रिश्चियन नाहीं है तौ क्रिश्चियन तौ बनावै का पडी तबै तौ क्रिश्चियन होइहैं। खैर हम तौ अपने दोस्त टामीचन की चिट्ठियन- "क्रिश्चियन बनौ -बनौ"  से इतना तंग आय गया कि जवाब देना छोड दिया और तंग होय के आखिर ऊ भी हमको चिट्ठी लिखना छोड दिया। वैसे ऊ हमका बोले रहा कि अगर हम क्रिश्चियन बन जाऊँगा तौ हमारा बियाह सुंदर मलयाली लडकी से करावैगा।

           जब हम पैदा हुआ रहा हमको अपना जात-धरम कुछौ मालूम नाही रहा। हमरे ननियौरे के सामने रहै वाले इस्लाम नाना बडा प्यार करते रहे हमको। जब हम कुछ बडा होय गया तब हमै मालूम पडा कि इस्लाम चाचा मुस्लिम हैं और हम हिंदू हूँ। हमरे नाना सुकुल रहे और हमै सुक्लाजी सुनै मां एकदम नीक नाहीं लागत रहा। एक जने केऊ जब नाना के घरे में आए के बैठत रहा और सब लोग उन्है तेवारीजी कहि के बोलावत रहा तौ हमार दिल बडा खुश होय जात रहा। हमरे घर मां एक दिन हमरे पिताजी एक ठौ नेमपिलेटिया बनवा के लाए तब हमैं पता चला कि हम तेवारी हूँ। हम बहुतै खुस हुआ कि हमार सरनेम तौ हमरै पसंद वाला है।हम जब कुछ बडा भया तो हमैं हिस्टरी मां बडा इंटेरेस्ट आवै लगा। हिस्टरी मां हम पढा कि मुसलमान लोग डिमांड करके अपने लिए अलग पाकिस्तान बनवाया। हम सोचा कि इस्लाम नाना फिर हियां कैसे रह गया। एक दिन हमार नाना अपने दवाखाना मां मरीज देखत रहे तबै हुआं इस्लाम नाना आय गए और हम उनसे पूछ बैठा नाना जब मुस्लिम लोग अपने लिए पाकिस्तान बनाया तब आप पाकिस्तान काहे नहीं गया। हमरे नाना मरीज छोड हमैं मारै दौडे पर इस्लाम नाना उनका हाथ पकड लिए और बोले ठीकै तो पूछ रहा है और बोले - "बेटवा हमैं तो तुम्हार नाना-नानी, मामा-मामी प्यारे हैं। हम इन्है छोड के कैसे जाते। बेटवा हमै तो यहीं की धरती प्यारी है। पाकिस्तान तौ जिन्ना बनाए हैं बेटवा, उन्है गवर्नर जनरल बनै का रहा। हमैं तो यहीं किसानी करना मंजूर रहा बेटवा।" हमरे पिताजी एक टेक्निकल इंस्टीट्यूट मां रहे । हुआं एक प्रिंसिपल रहे अहसन साहब ,धरम से मुस्लिम थे। एक दिन इस्लाम नाना कुछ काम से अहसन साहब के पास आए। फिर बोले हमारे दामाद आपै के हियां हैं। 'कौन' अहसन साहब पूछे। 'तेवारीजी' , इस्लाम नाना बोले। अहसन साहब बहुत चक्कर में आय गए और हमरे पिताजी को बुलाए और बोले 'तेवारीजी ई कह रहे हैं कि आप इनके दामाद हैं। आप मुस्लिम फैमिली में शादी किए हैं ई बात हमसे अब तक काहे छिपाए थे।' अब इस्लाम नाना बोले 'अरे प्रिंसिपल साहब, तेवारीजी सुक्लाजी के दामाद हैं और सुक्लाजी हमारे भाई हैं तौ ई हमारे दामाद नहीं हैं?' प्रिंसिपल साहब अपनी मूडी हिला दिए ,और करते भी क्या?

          जब हम बडा होय के नौकरी करने मुंबई पहुंच गया तो हुआं भी गडबडझाला देखै का पडा। हुआं जौनपुरिया ठाकुर लोग बहुत रहता रहा। सब लोग हमरे अंदर पता नहीं का देखा ,हमैं भी ठाकुर साहब , सिंह साहब कहने लगा। पर हम आफिस के बाहर  किसी को नहीं बताया कि हम कौन हूँ। जब हमारी सिरीमतीजी बियाह के आईं तो सब उन्हैं ठकुराइन कहि के बोलावै लगे । हमारी सिरीमतीजी चक्कर मां पड गईं। हमसे बोलीं-'आप इन्हैं सबका बताते काहे नाहीं कि आप कौन हैं।' हम कहा -'जे जऊन कहता है कहने दो,हम काहे अपना एनर्जी सबका समझावै मां वेस्ट करैं।' हमारी सिरीमतीजी हमका गौर से देखै लगीं अऊर बोलीं -' का ई सब आपका मुछिया देखके आपको सिंह कहिता है'। एक दिन जब केऊ हमै ठाकुर कहि के पुकारा तौ बोलीं-' का ई सब आपकी सोझ नकिया देख के आपको ठाकुर कहिता है?'  एक दिन एक सब्जीवाला हमरी सिरीमतीजी को टोक दिया-' ठकुराइन तोहार हथवा काहे खाली है, चुडिया-उडिया कुछू नाही पहिरे हौ' । 'अरे भैया बच्चों को पढाती हूँ। कहीं चोट-वोट न लग जाय इसलिए चूडी उतार दी है' - सिरीमतीजी बोलीं। सब्जीवाला कहै लगा-' अरे ठकुराइन हथवा मां एक ठौ तगवै बांध लेतियु। खाली हाथ नीक नाही लागत है ।' जब सिरीमतीजी घरे आईं तौ हमरे मित्र नागर जी बैठे रहे। सिरीमतीजी बोलीं -'नागर साहब सब इन्हे सिंह,ठाकुर कह के बुलाते हैं, कभी किसी को सही नहीं करते,इनकी वजह से हमको लोग ठकुराइन कह के बलाते हैं। 'नागरजी बोले -- 'अरे भाभीजी हमको कुछ लोग गुप्ताजी कह के बुलाते हैं, हम आज तक उन्हें सही नहीं किए'। सिरीमतीजी अपना सिर पीट लीं। एक दिन तो हद होय गई, सिरीमतीजी हमैं ले के अपनी एक सहेली के घरे गईं अऊर सहेली के ससुर सियौदिया साहब हमसे पूछै लगे-'आप कौन से ठाकुर हैं?' खैर , जब मुंबई छोडा तौ ई ठाकुर पुराण से हमरा पिंड छूट गया।  

          कुछ दिन हम बरेली मां रहे। हुआं एक दिन कवि कमल सक्सेनाजी हमें एक कवि सम्मेलन मां इनवाइट कर गए। खैर जब हम हुआं पहुँचे तौ मालूम पडा कि  ससुरा कवि सम्मेलन दरअसल एक कायस्थ सम्मेलन का हिस्सा रहा। कुछ लोग हमसे पूछै लगे -'आप सिरीवास्तव हो कि सक्सेना।' हम चुपचाप कविसम्मेलन छोड के पिछले दरवाजे से निकल लिए अऊर घर आय गए। कुछ दिन बाद कमलेश सक्सेना मिलै पे बोले -'त्रिपाठीजी कुछ गलती हो गई क्या? आप उस दिन कवि सम्मेलन छोड के चले आए' । हम कहा-" कमलेशजी आप तो हमै इ बतईबै नाहीं किहे कि ई कायस्थ सम्मेलन रहाऔर हम ठहरे नान-कायस्थ, केऊ हमरे ऊपर पिल पडता तौ हम काव करते?' '।  "अरे त्रिपाठीजी हम वहाँ के पदाधिकारी हैं। ऐसे कैसे होता?'  ' नहीं भैया, ई सब सम्मेलन मां हमें न बुलाया करो' हम कहा।  एक दिन हमरे घरे कवि-वैज्ञानिक सारस्वतजी पधारे अऊर बोले -'त्रिपाठीजी घर में बैठे हो, पूरा ब्राह्मण समाज इनवर्टिस वाले गौतम के कार्यक्रम में जा रहा है, मुलायम सिंह यादवजी पधार रहे हैं। चलो बैठो स्कूटर पर" । हम सारस्वतजी के आगे हाथ जोडा और क्षमा मांग लिया।

          जबसे हम कोलकाता आया हूँ  एक नवा समस्या से जूझ रहा हूँ। मुंबई मां हमारी सिरीमतीजी को मलयाली और हमका यू पी वाला ठाकुर समझत रहा और हियाँ सब हमका बंगाली अऊर हमारी सिरीमतीजी को मारवाडी समझ लेता है। बिना इंटरकास्ट मैरिज किए ही हमैं इसका आनंद प्राप्त होय जाय रहा है। एक दिन तौ विचित्रै कथा होय गई। हम लखनऊ से कोलकाता आय रहे थे। एक सिंधी भाई सपरिवार पास मां बैठा रहे। बात करत-करत बोले- 'आप तौ बंगाली होय के हिंदी अच्छा सीख लिए हैं भाई'। हम अपना मुडवा ठोंक लिए और का करते।  अबहीं कुछ दिन पहिले एक अऊर गडबड होय गई । अमेरिका से हमार सालीजी अपने बिटिया-बेटवा का लै के आय रहीं। केऊ सालीजी के बिटिया से पूछ बैठा कि अपने मौसा कै नाम जानत हौ । सालीजी कै बिटिया बोली-' हाँ'। 'ठीक है, अपने मौसा कय नाम बताओ' पूछै वाला बोल बइठा। सालीजी कै बिटिया जौन जवाब दिया कि हम सुनके चक्कर में आय गया- 'मौसा पांडे'। बिटिया का लाजिक एकदम सही रहा । जब ओकरे  लिए  घर वाले सब पांडे तौ मौसा कैसे गैर-पांडे होय सकत रहे। खैर बिटिया से हम कहा - जब हमरे पिताजी मुस्लिम के दामाद होय सकत हैं, जब हम सिंह- ठाकुर होय सकत हैं, जब हम कायस्थ सम्मेलन मां जाय सकत हैं , जब हम बंगाली होय सकत हैं तौ मौसा पांडे काहे नाही होय सकत हैं  बिटिया। खैर बिटिया जब तक रही हमैं मौसा पांडे बोलावत रही और हम ओके बोली पै बलिहारी जात रहेन।

          पर हमरा ज्ञान-चक्षु कुछ रोज पहिले खुल गवा जब हम पी के सिनेमा देखा। हम जान गया कि हम कौन हूँ। हम तौ एलियन हूँ। हम एलियन आया था , कुछ और बन गवा पर वापस एलियन बन के जाऊँगा। ई हमरा भाषा जरूर कुछ नवा होय गवा है, काहे से कि हम आमीर खान एलियन का फुलझरिया से झारा लैंगुएज सिनेमा देख के ढाँप लिया हूँ। सब लोग कहाँ-कहाँ का जय बोलता है , हम बोलूँगा-जय एलियन। जिस दिन ई सारा दुनिया जय एलियन बोल देगा सब जात- धरम का समस्या मिट जाएगा, अऊर हमरौ समस्या खतम होय जायगा कि हम आखिर हूँ कौन।


Saturday, 3 January 2015

वो माशूका थी तुम बीवी हो (व्यंग्य कविता/Satirical. Poem)

एक मित्र की पोस्ट से प्रेरित होकर-

उनअधूरी रातों की वो ख्वाबेपरीशाँ थी ,
इन मुकम्मल रातों की तुम ख्वाबेगफ्लत हो।।

वो शरारतभरी शराबे आतशरंग थी तो
तुम शराफत भरी शराबेमुकत्तर हो ।।

वो एक वालेह जिंदगी की फंटासी थी तो
तुम शिगुफ्ता जिंदगी की रियलिटी हो।।

एक कंबख्त वो माँ को बुला लेती थी
एक कंबख्त तुम वालिद को फोन थमा देती हो।।

वो मुफलिस जिंदगी के लिए निगाहेनाज थी
अब तुम मशहून जिंदगी पे निगाहबान हो।।

सिर तब भी धुनता था अब भी धुनता हूँ
फर्क ये है कि वो माशूका थी तुम बीवी हो।।