hamarivani.com

www.hamarivani.com

Saturday, 22 February 2014

क्या अरविंद केजरीवाल राजनीतिक हो चले हैं?

जब आम राजनैतिक दलों से अलग प्रकृति की “आप” ने अराजनैतिक अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली की सत्ता  ग्रहण की थी तो तमाम लोगों को “आप” और अरविंद दोनों से ही तमाम उम्मीदें बँधीं थीं. उन्चास दिनों तक सत्तासीन रहने के बाद “आप” ने सत्ता त्याग दी है तो तमाम सारे सवाल उठ खडे हुए हैं.

क्या “आप” और उसके नेता मिथ्याचारी और ढोंगी  (हाइपोक्राइट) हैं? अन्यथा, जब वे जानते थे कि उनके पास बहुमत नहीं है तो उसी कांग्रेस की मदद से उन्होंने सत्तासीन होने का निर्णय क्यों किया जिसके कुशासन और भ्रष्टाचार के विरूद्ध उन्होंने संघर्ष किया था. अरविंद का कहना है कि ऐसा जनाकांक्षाओं के चलते किया गया जिसकी पुष्टि रेफेरेंडम द्वारा की गई थी. यहाँ सवाल यह उठता है कि फिर पदत्याग करते समय उसी प्रक्रिया का पालन क्यों नहीं किया गया. हाइपोक्रिसी का एक अन्य उदाहरण लोकसभा चुनावों के लिए इच्छुक उम्मीदवारों से आवेदन मँगवाना,उनसे फार्म भरवाना तथा साक्षात्कार आयोजित करना है. कुछ सीटों के लिए पहले से उम्मीदवार तय कर लिए गए हैं फिर भी उन सीटों के लिए यह नाटक किया गया. अमेठी की सीट के लिए कहा जा सकता था कि इस सीट के लिए कुमार विश्वास पहले से चयनित हैं तथा व्यर्थ उक्त प्रक्रिया को अयोजित करने की कोई  जरूरत नहीं थी.  

क्या सत्ताग्रहण और पदत्याग योजनाबद्ध तरीके से किया गया ताकि लोकलुभावन घोषणाओं द्वारा और जनलोकपाल के मुद्दे पर पदत्याग कर उसे शहादत का जामा पहनाकर जनता को भरमाया जा सके तथा लोकसभा चुनावों में उसका फायदा लिया जा सके. हालांकि अरविंद  का कहना है कि ऐसा नहीं था, वे शासन करने के प्रति गंभीर थे अन्यथा वे घर बदलने की जहमत क्यों उठाते तथा अब जबकि उनकी बेटी की बोर्ड परीक्षाएं सर पर हैं, उसी समय वे पदत्याग क्यों करते. उनका कहना है कि वे जनलोकपाल तथा स्वराज के मुद्दे के प्रति कटिबद्ध हैं जिन पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता था. यदि यहाँ अरविंद सही हैं तो उन्होंने जनलोकपाल बिल के वित्तीय बिल होने के कारण, इस प्रकार के बिल को पेश किए जाने की विहित प्रक्रिया जिसके अनुसार लेफ्टिनेंट गवर्नर के माध्यम से बिल को केंद्रीय सरकार को संदर्भित करना था; का अनुपालन क्यों नहीं किया. उन्होंने विचार-विमर्श और निर्धारित प्रक्रिया का अनुपालन कर बिल को पास करवाने के लिए सही रास्ता क्यों नहीं अपनाया.

जब अरविंद दूसरों पर उँगली उठाते हैं तो उन्होंने सोमनाथ भारती या अपने अन्य मंत्रियों के मामले में उँगली उठने पर उसके निराकरण हेतु कोई उपाय क्यों नहीं किया.

अब जबकि “आप” की महत्वाकांक्षाएं केंद्रीय सत्ता को पाने की हैं और यह संभव भी है क्योंकि जब हर्दनहल्ली देवगौडा इस देश के प्रधानमंत्री बन सकते हैं तो निश्चय ही कोलीशन सरकार बनने की स्थिति में कल अरविंद केजरीवाल भी प्रधानमंत्री बन सकते हैं भले ही उनके पास दस ही सांसद हों; तो सवाल यह उठता है कि क्या सिर्फ दूसरों पर उँगलियाँ उठाते रहना ही केंद्रीय सत्ता पाने के लिए पर्याप्त है. निश्चय ही उन्हें सर्वप्रथम उस आर्थिक रास्ते को परिभाषित करना चाहिए जिस पर वे देश को ले जाना चाहते हैं. उन्हें यह भी बताना होगा कि उद्योग, व्यापार और कृषि के लिए उनकी नीतियाँ क्या होंगी. वे नौजवानों के लिए रोजगार का सृजन कैसे करेंगे. देश की विदेश नीति और रक्षानीति क्या होगी. देश की आंतरिक सुरक्षा के बारे में उनकी पार्टी के विचार क्या होंगे विशेषकर इस बात को मद्देनजर रखते हुए कि उनकी पार्टी के एक पुरोधा जम्मू काश्मीर में रेफेरेंडम की वकालत करते रहे हैं. स्वयं अरविंद  दिल्ली में अपने धरने के अवसर पर कह चुके हैं कि 26 जनवरी मना कर क्या होगा.  
  
सी आई आई की एक बैठक को 17 फरवरी को संबोधित करते हुए अरविंद ने जो कुछ कहा वह कहीं कुछ हद तक आश्वस्त करने वाला हो सकता है. उन्होंने कहा कि वे क्रोनी कैपटलिज्म के विरोधी हैं कैपिटलिज्म के नहीं. उन्होंने यह भी कहा कि वे निजी उद्यमों के विरोध में नहीं हैं तथा रोजगार के सृजन में इन उद्यमों की भूमिका महत्वपूर्ण है. उन्होंने उद्यमों में सरकार की भागीदारी का समर्थन न करते हुए सरकार को सुशासन केंद्रित बनाने पर जोर दिया. पर अपने इन विचारों को उन्हें विधिवत पार्टी की नीतियों के तौर पर परिभाषित कर देना चाहिए ताकि भ्रम की कोई गुंजाइश न रहे क्योंकि उनकी पार्टी के लोग इच्छानुसार अलग-अलग अपने विचार व्यक्त करते रहते हैं.
 
“जनलोकपाल” की अपनी सीमाएं हैं, भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए पहले आम चरित्र को बदलने की जरूरत है, दूसरे यह भी देखना होगा कि जनलोकपाल की संस्था इंसपेक्टरराज का ही एक और तंत्र बन कर न रह जाए. इसी प्रकार “स्वराज”  स्थानीय स्तर की समस्याओं के समाधान में ही सहायक हो सकता है क्योंकि इसकी  आत्मा मुहल्ला और ग्रामसभाओं को सर्वशक्तिमान बनाए जाने तथा रेफरेंडम की अवधारणा में निहित है और इसके आधार पर राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे हल नहीं किए जा सकेंगे. जनलोकपाल तथा अरविंद केजरीवाल की अवधारणा के स्वराज से ही देश की सारी समस्याओं का निराकरण नहीं हो सकेगा.


सपने देखना और दिखाना आसान है पर उनको पूरा करने के लिए विचारों की स्पष्टता तथा सुव्यवस्थित और समयबद्ध कार्ययोजना एवं कठोर परिश्रम आवश्यक है. पिछले दो महीनों के दौरान अरविंद का आचरण देखकर लगता है कि वे धीरे-धीरे राजनीतिक हो चले हैं. एक लंबे अरसे से जनता के सपने टूटते आ रहे हैं. क्या एक और सपना टूटेगा या फिर टूट चुका है ? इसका जवाब अरविंद केजरीवाल के पास है. 

Monday, 3 February 2014

चलो कीचड उछालें ! (व्यंग्य-Satire)

          "आप" ने  फाल्गुन तो कौन कहे, बसंत आने के पहले ही फगुहा खेलना शुरू कर दिया. जब सभी कीचड उछाल राजनीति कर रहे हैं तो "आप" क्यों पीछे रहे और पच्चीस भ्रष्ट राजनीतिज्ञों की सूची कर दी. जिसे चिल्लाना है चिल्लाते रहो, तथ्य साबित करने की,  कानूनी नोटिस भेजने की और  न्यायालय जाने की  धमकी देते रहो. होली में कुछ लोग रंग के पैसे बचाने के लिए नाली का कीचड और गोबर फेंक कर होली खेलने का शौक पूरा करते  हैं. सो अगर "आप" ने गाँवों और शहरों दोनों जगह प्रचलित इस परम्परा का अनुसरण किया तो क्या बुरा किया. फिर इसका तो चुनाव-चिह्न ही झाडू है. इसलिए इसके पास कचरा सदैव स्टाक में रहता है.

         मोदी और सोनिया बच रहे थे तो अगले दिन  उनके ऊपर भी कालिख  फेंकने का इंतजाम कर लिया गया. कह दिया गया कि कार्यकर्ताओं की माँग पर और उनकी सहमति से इनके भी नाम शामिल कर दिए गए हैं क्योंकि ये भ्रष्ट फौज का नेतृत्व कर रहे  हैं . अगर ऐसे ही लिस्ट जारी कर निर्णय कर दिए जाएंगे तो शायद भारतवर्ष के न्यायालयों पर बढा हुआ बोझ काफी कम हो जाएगा. आपको मालूम नहीं है क्या कि "आप" बात-बात पर रेफरेंडम कराती रहती है और सारे महत्वपूर्ण फैसले रेफरेंडम के बूते ही करने की पक्षधर है . यह रेफरेंडम क्या-क्या गुल खिलाएगा पता नहीं. मैं तो काफी  सहम  गया  हूँ. कहीं ऐसा न हो कि किसी दिन मुझे  मुहल्ले से निकालने का  फरमान सुना दिया जाए और कहा जाए कि मुहल्ला समिति ने एक रेफरेंडम में यह निर्णय लिया है. अब मैं लाख दुहाई देता  रहूँ कि मुहल्ले का मेरा यह घर मेरी पुश्तैनी जायदाद है और इस पर मेरा कानूनी हक है.  जैसे किसी जमाने में कांग्रेस के ओसारे में यह कहावत प्रचलित थी -" खाता न बही जो सीताराम केसरी कहें वही सही "  वैसे ही अब "आप" की कृपा से -"खाता न बही जो रेफरेंडम कहे वही सही". फिर जनमत के आगे कानून क्या है. दस आदमी आपके आगे- पीछे हैं तो जनमत आपके साथ है.किसी के भी घर में आधी रात को घुस जाइए और कह दीजिए कि वो ड्र्ग पेडलर है, अगर जनाना है तो वेश्यावृत्ति का आरोप लगा दीजिए. मुहल्ले में आपका रसूख बना रहेगा और वाहवाही मिलेगी सो अलग. आखिरकार "आप" के मुख्यमंत्री को गर्व है कि लोग उन्हें अराजकतावादी कह रहे हैं. इसलिए अगर "आप" की लोकतांत्रिक प्रणाली के अंतर्गत विरोधी स्वर व्यक्त करने वाले  को शाउटिंग ब्रिगेड द्वारा बैठक  में  चुप होने के लिए मजबूर कर दिया जाता है तो इसमें हर्ज क्या है. अराजकतावाद और जनमत दोनों का ही अनुकरण किया जा रहा है. जिसके पीछे लोग ज्यादा आवाज  में चिल्लाएं वही लोकतंत्र का झंडाबरदार है, वहीं जनमत है.

         इस देश में तमाम लोग तमाम चीजों के ठेकेदार हैं. किसी ने धर्मनिरपेक्षता का ठेका ले रखा है तो किसी ने राष्ट्रवाद का. किसी ने समाजवाद का ठेका लेकर उसे परिवारवाद में तब्दील कर दिया है. सबका अपना-अपना यू.एस.पी.है. ईमानदारी का बीडा "आप" ने उठाया है. इसलिए वह ईमानदारी की स्वयंभू ठेकेदार है.  वह जिसे चाहे बे‌ईमान  बताए और जिसे चाहे ईमानदारी का तमगा दे-दे. इस परम्परा की शुरुआत तो  औरों ने की थी. "आप" तो बस उसे आगे बढा रही है. अंग्रेजी की कहावत -" Give  the  dog  a bad  name   and  kill  him" का अनुपालन करते हुए सभी अपना- अपना मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं सो "आप" भी यही कर रही है तो इतनी अकुलाहट क्यों, इतनी  चिल्लाहट क्यों?

          दिल्ली के देश  की राजधानी होने के कारण उस पर पूरे देश का हक है यह कहने वालों को थोडे दिनों में अपनी औकात का  पता चल जाएगा. महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना जैसी किसी पार्टी की दिल्ली में कमी थी सो तथाकथित अराजकतावादी,समाजवादी,मार्क्सवादी और संघवादी के गठजोड नेतृत्व वाली  "आप" ने क्षेत्रवाद का भी ठेका   ले लिया है. दिल्लीवासियों के लिए दिल्ली की संस्थाओं में आरक्षण की माँग कर "आप" उस कमी को भी पूरा कर रही है जो अब तक थी. आप विश्वास मानिए पूर्वोत्तर भारत के लोगों पर दिल्ली में हमले इस क्षेत्रवाद का परिणाम नहीं बल्कि दुर्घटनामात्र हैं. आप का सर ऐसी घटनाओं पर शर्म से झुक जाता  है तो झुकाए रहिए.

         इन राजनैतिक तौर-तरीकों को अपनाने वालों को सर-आँखों पर बैठाने वाले तो हम ही हैं.  इसलिए हमने जो बोया है वही  हम  काटेंगे .